प्रधानमंत्री की बिजली बंद करने की अपील के पीछे ये है डर

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अप्रैल को रात 9 बजेे 9 मिनट के लिए देशभर के लोगों से बिजली बंद करने की अपील की है। ऐसे में प्रधानमंत्री की इस अपील का पालन देश करने की तैयारी कर रहा है(Power Grids On Alert), लेकिन प्रधानमंत्री के इन निर्देशों को लेकर अब बिजली कंपनी सकते में आ गई है।

पत्थर का बदला मौत से मुस्लिम होने की वजह से डॉक्टर ने नहीं किया इलाज़ ,बच्चे की मौत

बिजली कंपनी के अधिकारियों को इसे लेकर अपील भी जारी करना पड़ गई कि यदि एक साथ देश में लाइट बंद हो गई तो इससे उनकी कंपनी का बड़ा नुकसान हो सकता है। यह नुकसान पैसा का नहीं है, बल्कि नुकसान है संसाधनों के नष्ट होने का। बिजली कंपनी के सभी ग्रिड पर लोड पड़ने से ब्लैक आउट का खतरा भी बढ़ सकता है।

क्या है विद्युत विभाग का डर-
विद्युत विभाग का डर ग्रिड खराब होने की समस्या को लेकर है। देश में दूूर दूर के इलाकों में ग्रीड के माध्यम से ही बिजली पहुंचाई जाती है। ऐसे में जब पूरे देश में एक साथ बिजली बंद होगी, तो अलग-अलग स्थानों पर जो ग्रीड हैं उन पर लोड बढ़ेगा। इससे ग्रिड पर फाल्ट भी हो सकता है। ऐसे में विद्युत मंत्री आर.के. सिंह ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि कैसे इस संकट से उभरा जा सकता है। विद्युत मंत्री ने इसे लेकर अधिकारियों की मीटिंग बुलाई थी जिसमें इस बात पर चर्चा की गई कि ग्रिड को किस तरह से बरकरार रखा जा सकता है।

क्या विकसित राष्ट्र अमेरिका की तरह ही भारत में बढ़ेंगे आंकड़े

देश में कम हुई बिजली की खपत-
देश में इन दिनों लाॅक डाउन के हालात हैं। ऐसे में बई बड़े प्लांट, कंपनी और उद्योग बंद हैं। वहीं कई बड़ी दुकानें और प्रतिष्ठानों में भी ताला लगा हुआ है। इसके अलावा आयोजन नहीं होने से भी बिजली की खपत कम ही हो रही है। इसलिए देश में बिजली की खपत में 25 से 30 फीसदी की कमी आ गई है(Power Grids On Alert)

ये है उपाय-
बिजली कंपनी का डर अपनी जगह जायज़ है। ऐसे में अधिकारियों ने आम लोगांे के नाम अपील जारी की है कि वे ब्लैक डाउन के दौरान अपने घर मंे बिजली के दूसरे उत्पादों को चालू रखें। यदि वे अपने घर के बाहर की लाइट बंद भी करते हैं तो आप उन्हें चालू रखें। वहीं आपको बाहर की लाइट बंद करके सामूहिक एकता का प्रदर्शन करना है। इसलिए घर के अंदर उजाला रखा जा सकता है।

-Rahul Kumar Tiwari

Share.