अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

0

राज्यसभा की कार्यवाही को आज अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया| बजट सत्र के दोनों चरण हंगामें की भेंट चढ़ गए| सदन में कोई कार्यवाही नहीं होने के कारण सभापति वेंकैया नायडू ने इस पर दुःख जताया|

पूरे बजट सत्र में पीएनबी घोटाला, आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग, कावेरी विवाद के साथ ही कई मुद्दों पर हंगामा चलता रहा| इसके बाद सभापति ने खेद जताते हुए कहा कि लोगों की चिंताओं और अपेक्षाओं को पूरा करने में हमारा योगदान नहीं के बराबर रहा|

वेंकैया नायडू ने सत्र को स्थगित करने से पहले कहा, “गतिरोध के कारण सदन के कीमती 120 घंटे बर्बाद हो गए, जबकि मात्र 45 घंटे कामकाज हुआ| ग्रेच्युटी भुगतान संशोधन विधेयक को बिना चर्चा के पारित करने के अलावा सदन में कोई विधायी कार्य नहीं हुआ| उच्चतम न्यायालय ने हाल ही में अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार निवारण कानून के बारे में एक फैसला सुनाया था| इसके परिणामस्वरूप देश में उभरी जनधारणा के कारण आंदोलन हुए और देश के कुछ हिस्सों में हिंसा भी हुई| लेकिन आप ने इस पर भी चर्चा नहीं की, मैं इस बात पर गौर करके दुखी हूं कि इस महत्वपूर्ण संसदीय संस्थान और इसकी जिम्मेदारियों के जनादेश के प्रति असम्मान और गंवाए गए अवसरों के कारण यह सत्र व्यर्थ चला गया|”

Share.