website counter widget

Ayodhya Verdict Reactions : जानिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर किसने क्या कहा

0

अयोध्या मामले (Ayodhya Case Verdict ) पर फैसला आने के बाद देश में हिन्दू और मुस्लिम पक्ष के लोगों ने सुप्रीम कोर्ट का सम्मान किया और फैसला स्वीकार किया, लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं (Ayodhya Verdict Reactions), जिन्होने इस फैसले का विरोध किया। कोर्ट ने यह तय कर दिया है कि अब विवादित स्थल पर राम मंदिर का ही निर्माण होगा। साथ ही मुस्लिम पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए पाँच एकड़ जमीन दी जाएगी। इस फैसले के आने के बाद कई लोगों के सोशल मीडिया पर रिएक्शन (Ayodhya Case Verdict  Social Media Reaction) आने लगे हैं। आइये जानते हैं राम मंदिर के फैसले पर किसने क्या कहा।

93 साल के वकील की 40 साल की लड़ाई से हुई रामलला की जीत

Ayodhya Case Verdict  Social Media Reaction :

किसी की हार या जीत नहीं : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि देश के सर्वोच्च न्यायालय ने अयोध्या पर अपना फैसला सुना दिया है। इस फैसले को किसी की हार या जीत के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। रामभक्ति हो या रहीमभक्ति, ये समय हम सभी के लिए भारतभक्ति की भावना को सशक्त करने का है। देशवासियों से मेरी अपील है कि शांति, सद्भाव और एकता बनाए रखें। सुप्रीम कोर्ट (Ayodhya Verdict Reactions) का यह फैसला कई वजहों से महत्वपूर्ण है: यह बताता है कि किसी विवाद को सुलझाने में कानूनी प्रक्रिया का पालन कितना अहम है। हर पक्ष को अपनी-अपनी दलील रखने के लिए पर्याप्त समय और अवसर दिया गया। न्याय के मंदिर ने दशकों पुराने मामले का सौहार्दपूर्ण तरीके से समाधान कर दिया।

फैसले का स्वागत : अमित शाह

गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर सर्वसम्मति से आये सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का मैं स्वागत करता हूं।

शांति और सौहार्द बनाए रखें : राजनाथ सिंह

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो फ़ैसला दिया है वो ऐतिहासिक है और इसे सहज रूप से सभी को स्वीकारना चाहिए। मैं ये भी मानता हूं कि इससे सर्वधर्म समभाव की भावना मज़बूत होगी। मैं सभी से शांति और सौहार्द बनाए रखने की अपील करता हूं।

फैसले पर भड़के ओवैसी

एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि मैं कोर्ट के फैसले से संतुष्‍ट नहीं हूं। सुप्रीम कोर्ट वैसे तो सबसे ऊपर है, लेकिन अपरिहार्य नहीं है। हमें संविधान पर पूरा भरोसा है, हम अपने अधिकार के लिए लड़ रहे हैं, हमें खैरात के रूप में 5 एकड़ जमीन नहीं चाहिए। हमें इस पांच एकड़ जमीन के प्रस्‍ताव को खारिज कर देना चाहिए। हमे खैरात नहीं चाहिए। जिन्होंने 6 दिसंबर 1992 को बाबरी मस्जिद को गिराया, आज उन्हीं को सुप्रीम कोर्ट कह रहा है कि ट्रस्ट बनाकर मंदिर का काम शुरू कीजिए। मेरा कहना ये है कि अगर मस्जिद नहीं गिराई गई होती तो कोर्ट क्या फ़ैसला देता?

आडवाणीजी को धन्यवाद : उमा भारती

भाजपा नेता उमा भारती ने कहा कि कोर्ट ने एक निष्पक्ष किंतु दिव्य निर्णय दिया है। मैं आडवाणी जी के घर में उनको माथा टेकने आई हूं। आडवाणी जी ही वह व्यक्ति थे जिन्होंने स्यूडो-सेक्युलर को चैलेंज किया था। उनकी ही बदौलत आज हम यहां तक पहुंचे हैं।

राममंदिर के लिए समर्पित था जो शख्स, आज सुन न सका फैसला

मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च हमें मानवता सिखाते हैं : राज बब्बर

कांग्रेस नेता राज बब्बर ने इस फ़ैसले को स्वीकार करने और शांति और एकता बनाए रखने की अपील की है। उन्होने कहा कि सभी मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे और चर्च हमें मानवता सिखाते हैं। हमारी अदालतें मानवता के आदर्शों में हमारा भरोसा बनाए रखती हैं। आइए देश में शांति, सुरक्षा और एकता बनाए रखने की भावना के साथ अयोध्या के फ़ैसले को स्वीकार करें।

Ayodhya Case Verdict : राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से भड़के ओवैसी

   – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.