website counter widget

PM Narendra Modi Speech in Lok Sabha : जानिये लोकसभा में धन्यवाद प्रस्ताव पर क्या बोले मोदी

0

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ( Ram Nath Kovind, President of India) के अभिभाषण पर लोकसभा (Lok Sabha) और राज्यसभा में बहस जारी है। इस पर कई मंत्रियों और नेताओं ने अपनी राय व्यक्त की। ऐसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने भी अपना विचार रखा। उन्होंने कहा कि इस प्रस्ताव का धन्यवाद देश की जनता का धन्यवाद है। एक सशक्त, सुरक्षित राष्ट्र का सपना हमारे देश के अनेकों महापुरुषों ने देखा है और उसे पूरा करने के लिए अधिक गति के साथ हम सबको मिलकर आगे बढ़ना है। आज के वैश्विक वातावरण में भारत को यह अवसर खोना नहीं चाहिए।

VIDEO : खून से लथपथ बहन के साथ पुलिस चौकी पहुंचे भाई को पुलिस ने क्यों भगाया ?

पीएम मोदी ने आगे कहा कि देश की आकांक्षाओं को पूरा करने में आने वाली हर चुनौती को हम पार कर सकते हैं। इस चर्चा में करीब 60 सांसदों ने हिस्सा लिया, जो पहली बार आए हैं उन्होंने अच्छे ढंग से अपनी बात रखी और चर्चा को सार्थक बनाने का काम किया। अनुभवी लोगों ने अपनी तरह से चर्चा को आगे बढ़ाया। हम सभी मनुष्य हैं और जो छाप मन पर रहती है और उसका निकलना कठिन रहता है।


जांच-परख के बाद मिला जनादेश

100 भारतीयों के खिलाफ इंटरपोल ने जारी किया ब्लू कॉर्नर नोटिस

चुनावी भाषण का असर यहां नजर आया और वही बातें सुनने को मिल रही थीं। पीएम ने आगे कहा कि स्पीकर ने ठीक ढंग से इस चर्चा को आगे बढ़ाया बावजूद इसके आप सदन में नए हैं और नए को सदस्य परेशानी में डालने की कोशिश करते हैं। कई दशकों बाद देश ने एक मजबूत जनादेश दिया है। पीएम मोदी ने कहा कि मतदाता अपने से ज्यादा अपने देश के लिए फैसले करता है यह बात इस चुनाव में नजर आई है। देश के मतदाता अभिनंदन के अधिकारी हैं। 2014 में हम पूरी तरह नए थे, देश के लिए अपरिचित थे, लेकिन उस हालात से बाहर निकलने के लिए देश ने एक प्रयोग के रूप में हमें मौका दिया, लेकिन 2019 का जनादेश पूरी तरह का कसौटी पर कसने के बाद, हर तराजू पर तौले जाने के बाद, जांच-परखने के बाद मिला है।

सदन में AAP सांसद भगवंत मान ने कहा कि पंजाब के बारे में राष्ट्रपति के भाषण में कुछ भी नहीं कहा गया। उन्होंने कहा कि आज वहां का नौजवान बेरोजगारी की मार झेल रहा है क्योंकि उनके पास कोई काम नहीं है। मान ने कहा कि गोर अंग्रेज चले गए और काले अंग्रेज आ गए।

कंप्यूटर बाबा पर मेहरबान कमलनाथ सरकार

सरकार सभी की

पीएम ने आगे कहा कि जनता के लिए जूझना, खपना 5 साल की तपस्या के फल के रूप में मिला है। कौन हारा, कौन जीता यह मेरी सोच का हिस्सा नहीं है। देशवासियों के सपने और उनकी आशा मेरी नजर में रहती है।  2014 में जब जनता ने मौका दिया और सेंट्रल हॉल में वक्तव्य देने का मौका मिला तो मैंने कहा था कि मेरी सरकार गरीबों को समर्पित है।  5 साल बाद संतोष के साथ कह सकता हूं जो संतोष जनता ने ईवीएम का बटन दबाकर व्यक्त किया है।  प्रताप सारंगी जी और हिना गावित ने जिस तरह से विषय को प्रस्तुत किया उसके बाद मैं कुछ भी न बोलूं फिर भी बात पहुंच जाती है।  देश के जितने भी महापुरुष हुए उन्होंने एक बात हमेशा कही, उन्होंने आखिरी छोर पर बैठे इंसान की भलाई की बात कही।  पिछले पांच साल के कार्यकाल में हमारे मन में यही भाव रहा जिसके कोई नहीं उसके लिए सिर्फ सरकार होती है।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.