website counter widget

सबसे बड़े कैंसर उपचार संस्थान का उद्घाटन कल

0

कैंसर जैसी घातक बीमारी की रोकथाम और उसका कारगर इलाज ढूढ़ने में पूरी दुनिया के डॉक्टर्स और वैज्ञानिक लगे हुए हैं। वहीं देश में इस रोग के इलाज के लिए कई अस्पताल तो मौजूद हैं लेकिन फिर भी अपर्याप्त साधनों के चलते बीमारी का इलाज काफी मुश्किल होता है। ऐसे में देश का सबसे बड़ा राष्ट्रीय कैंसर संस्थान झज्जर में बन कर तैयार हो चुका है। देश के सबसे बड़े कैंसर संस्थान का मंगलवार 12 फ़रवरी के दिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन करेंगे।

कुरुक्षेत्र से इसका विधिवत उद्घाटन किया जाएगा। इस अवसर पर एम्स परिसर में कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ शामिल होंगे। बाढ़सा में 300 एकड़ भूमि में फैले राष्ट्रीय आयुर्विज्ञान संस्थान पार्ट-2 के तकरीबन 60 एकड़ हिस्से में, राष्ट्रीय कैंसर संस्थान निर्मित किया गया है। देश के इस सबसे बड़े कैंसर संस्थान में, सालाना तकरीबन 5 लाख मरीजों के उपचार की व्यवस्था की गई है। इस संस्थान का निर्माण 3 चरणों में किया जा रहा है। जिसमें से पहले चरण का कार्य पूर्ण हो चुका है। पहले चरण में 250 मरीजों के लिए पलंग व्यवस्था की गई है।

गौरतलब है कि प्रतिदिन 80 से 100 मरीज ओपीडी में आ रहे हैं, जिन्हें चिकत्सकों के परामर्श के साथ रेडियो थेरेपी, कीमो थेरेपी और लैब की अत्याधुनिक सुविधा भी उपलब्ध कराई जा रही है। देश के इस सबसे संस्थान में चौबीसों घंटे  डॉक्टरों के अलावा टेक्निकल और नॉन टेक्निकल स्टाफ उपस्थित रहता है। इस संसथान में सबसे अत्याधुनिक तकनीकी मशीनें हैं। वहीं इस संस्थान की लैब को पूरी तरह अत्याधुनिक तकनीकी मशीनों से संचालित किया जाता है। इस लैब की क्षमता प्रतिदिन 60 हजार सैंपल की जांच करने की है। इतना ही नहीं, इस संस्थान में 25 मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर भी बनाए गए हैं। इस सस्थान के दूसरे चरण का कार्य इसी साल के अंत तक यानी दिसंबर तक पूरा हो जायेगा। दूसरे चरण के पूरा होते ही संस्थान में 500 बेड की सुविधा शुरू हो जाएगी।

अगले साल के अंत तक यानी दिसंबर 2020 तक इसका तीसरा चरण भी पूर्ण हो जाएगा। तीनों चरण का कार्य पूरा होने पर इस संस्थान में 710 मरीजों के लिए बेड उपलब्ध हो जाएंगे। राष्ट्रीय कैंसर संस्थान में प्रोटॉन थेरेपी से भी मरीजों का इलाज संभव होगा। देश के सबसे बड़े इस संस्थान में बोन मैरो ट्रांसप्लांट भी किया जाएगा। इतना ही नहीं इस संस्थान में लगभग 100 तरह के कैंसर का इलाज किया जाएगा। तीनों चरणों की प्रक्रिया पूरी होने पर इस संस्थान में प्रोटॉन थेरेपी जैसी सुविधाएं शुरू की जाएंगी।

(प्रभात)

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.