20 मौत के बाद खुला मोदी का मुंह तो सोशल मीडिया पर लग गई दुश्मनों की भीड़

0

  • दिल्ली में 3 दिन से चल रहीं हिंसा
  • लेकिन अब जागे पीऍम मोदी
  • 20 मौत के बाद आया मोदी का ट्वीट
  • क्यों अमित शाह को  टैग नहीं किया मोदी ने
  • सोशल मीडिया पर इस ट्वीट ने मचाया बवाल

दिल्ली (Delhi Violence) में लगातार 3 दिन से हिंसा चल रहीं है थमने (20 Deaths In Delhi Violence) का नाम नहीं ले रहीं है पूरा देश इस हिंसा से जाग उठा लेकिन पुरे  देश की कमान संभालने वाले पी ऍम मोदी अभी तक कहा थे क्यों अभी तक दिल्ली हिंसा (Delhi Is Burning ) पर पीएम मोदी का कोई रिएक्शन नहीं आया क्या  ट्रम्प (Trump Visit India) का स्वागत और ट्रम्प इतना ज़रूरी था मोदी के लिए की  दिल्ली (Delhi Riots 2020) में हुआ इतना बड़ा बवाल भूल गए  और तो और  20 मौत हो गई ये भी नहीं दिखी अभी तक 4 गलती सामने आई सुप्रीम कोर्ट की , केजरीवाल (Arvind Kejriwal)  की , गृह मंत्रालय (Home Minister Amit Shah) की और प्रदर्शनकारियों की लेकिन सबसे बड़ी गलती मोदी (PM Modi) की देश को सम्हालने की बात करते है।

Delhi Violence : राजधानी में अर्धसैनिक बल तैनात, गृह मंत्रालय ले रहा पल-पल की अपडेट

दिल्ली (Delhi Government) का जायज़ा लेने की दूर की बात एक रिएक्शन नहीं दे पाए (20 Deaths In Delhi Violence) और अब बात करते है शांति की इससे तो यही समझ में आ रहा है पहले अपने नेताओ को कहते है भड़काऊ बयान दो फिर दिल्ली में हिंसा (Delhi Burns) करवाओ और फिर बाद में कहते है  की शांति बनाए रखे और तो और  जो दिल्ली की कमान सम्हाल रहा है गृह मंत्रालय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) को टैग तक नहीं किया ट्वीट में यानी की मोदी अपने ट्वीट से यही कह रहें की अमित शाह की कोई गलती नहीं मोदी के इस ट्वीट के बाद दर्शक इतने भड़के है की लगातार मोदी (Modi Protest) का विरोध कर रहे है और कह रहे है कि अभी तक मोदी जागे नहीं।

दिल्ली में पुलिसकर्मी ही तोड़ रहे CCTV कैमरे, Video Viral

बता दें राजधानी दिल्ली (Delhi Protest) के कई इलाकों में सोमवार से हिंसात्मक (20 Deaths In Delhi Violence) प्रदर्शन जारी है और इस उपद्रव के कारण अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है वहीं तकरीबन 200 लोग घायल हो चुके हैं जिनका अस्पताल में इलाज चल रहा है। कल सुबह 10 बजे के आस पास भी मौजपुर मेट्रो स्टेशन से 100 मीटर की दूरी पर दीवार के उस पर से गोलियों के चलने की उस तरह ही आवाज आ रही थी जिस तरह से सीमावर्ती इलाकों में अक्सर सुनाई देती है। राजधानी दिल्ली के इस इलाके में लगातार गोलियों की तड़तड़ाहट गूंज रही थी और पुलिस प्रशासन मात्र गोलियों के खोखे गिन रही थी। दीवार पार से उपद्रवी लगातार गोलियां चला रहे थे, पेट्रोल बम फेंक रहे थे, पत्थर बरसा रहे थे और पुलिस तमाशबीन बनी अगले आदेश का इंतजार कर रही थी। हिंसा लगातार बढ़ती गई नतीजतन कल यानी मंगलवार को 5 मेट्रो स्टेशनों को बंद करना पड़ा, हिंसाग्रस्त इलाकों में धारा 144 लागू (Section 144 imposed) करनी पड़ी और अतिरिक्त पुलिस बल तैनात करना पड़ा। इसके पहले खबर मिली थी कि एक शख्स जिसका नाम शाहरुख़ बताया गया था उसने 8 राउंड फायरिंग की थी और पुलिस ने उसकी पहचान कर उसे हिरासत में भी ले लिया था। साथ ही यह खबर भी सुनने में आई थी कि इस हिंसात्मक (Delhi Violence) घटना में एक पुलिस हेड कांस्टेबल रतन सिंह (Police Constable Ratan Singh) की मौत हो गई। कई जगहों पर आगजनी की गई, तोड़फोड़ की गई, दुकानों और घरों में आग लगाई गई लेकिन मोदी सोए रहें इन सब बात से यही लग रहा मोदी को चिंता नहीं।

दिल्ली में दंगाईयों की भीड़ ने Jk 24X7 न्यूज़ चैनल के रिपोर्टर आकाश को मारी गोली

Share.