Delhi Violence : फंडिंग मामले में PFI के अध्यक्ष परवेज और सचिव इलियास गिरफ्तार

0

शाहीन बाग़ में चल रहे नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध प्रदर्शन में और दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) में फंडिंग करने के आरोप में दिल्ली पुलिस (Muhammad Ilyas Arrested)  की स्पेशल सेल (Special Cell) ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के प्रेसिडेंट परवेज अहमद (Parvez Ahmad) और सेक्रेटरी मोहम्मद इलियास (Muhammad Ilyas) को गिरफ्तार किया है। इन दोनों पर राजधानी दिल्ली में हिंसा भड़काने के आरोप हैं। हिरासत में लिए गए दोनों लोगों से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल फंडिंग को लेकर लगातार पूछताछ कर रही है। इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने PFI के प्रेसिडेंट परवेज अहमद से मनी लांड्रिंग (Money laundering) के मामले में पूछताछ की थी। हालांकि तब उन्होंने इस बात से साफ़ इंकार कर दिया था कि PFI का एंटी सीएए विरोध (हिंसक प्रदर्शन) से कोई संबंध था। परवेज के इंकार करने के बाद भी प्रवर्तन निदेशालय के पास पुख्ता सबूत थे। ED ने बताया था कि PFI और रिहैब फाउंडेशन ऑफ इंडिया से जुड़े अलग-अलग बैंक खातों में 120 करोड़ से अधिक धनराशि जमा की गई थी। यह धनराशि तब निकाली गई थी जब हिंसक प्रदर्शन हुए थे।

Delhi Violence : 2 न्यूज़ चैनलों पर लगाया गया प्रतिबंध, जाने क्या है मामला

वहीं PFI के प्रेसिडेंट परवेज अहमद (Parvez Ahmad) और सेक्रेटरी मोहम्मद इलियास (Muhammad Ilyas Arrested) की गिरफ्तारी को लेकर बताया जा रहा है कि इलियास शिव विहार का निवासी है। दिल्ली पुलिस (Delhi Police) इस मामले में आज शाम 4 बजकर 30 मिनट पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी। राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा (Delhi Violence) में PFI की भूमिका की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को एक बड़ी जानकारी हासिल हुई है। इस मामले में पहले गिरफ्तार किए गए आरोपी दानिश (Mohammad Danish Ali) से स्पेशल सेल ने पूछताछ की तो उससे फंडिंग को लेकर काफी जानकारी हासिल हुई है। अब स्पेशल सेल देश मे कई स्थानों पर हुए भड़काऊ भाषणों की प्रमुखता से जांच कर रही है। अहमद नगर में दिए गए भड़काऊ भाषणों को लेकर उमर खालिद (Umar Khalid) भी स्पेशल सेल की जांच के दायरे में है। वहीं प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के खिलाफ सोमवार को एक और ताजा मामला दर्ज किया था। यह मामला दिल्ली पुलिस की FIR को संज्ञान में लेकर दर्ज किया गया। मोहम्मद दानिश जो कथित रूप से पीएफआई का सदस्य है उसके अलावा एक अन्य सदस्य पर मुकदमा दर्ज किया गया था। इन दोनों पर शाहीन बाग़ में चल रहे विरोध प्रदर्शन के लिए फंडिंग करने का आरोप है।

Delhi Violence : IB अफसर अंकित शर्मा के हत्यारे ताहिर हुसैन ने किया सरेंडर

इस मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी दानिश (Mohammad Danish Ali) को लेकर स्पेशल सेल (Special Cell) ने बताया था कि वह PFI के काउंटर इंटेलिजेंस विंग (Counter Intelligence Wing) का प्रमुख है और पूरे शहर में चल रहे CAA विरोध प्रदर्शन (CAA protest) में सक्रिय रहता है। उस पर इन विरोध प्रदर्शनों के दौरान कथित रूप से दुष्प्रचार करने का आरोप है। परवेज अहमद (Parvez Ahmad) और मोहम्मद इलियास (Muhammad Ilyas Arrested) की गिरफ्तारी के बाद स्पेशल सेल का कहना है कि PFI ने 20 दिसंबर 2019 को देश भर में हिंसा भड़काने के लिए पहले से ही लोगों को मानसिक रूप से तैयार किया था। हिंसा के लिए फंडिग को लेकर पुलिस ने बताया कि PFI ने मेरठ में 12 लोगों के खाते में पैसे डलवाए थे। इन 12 खातों में से 4 खातों में 3-3 करोड़ रुपए की धनराशि जमा कराई गई थी। इसे लेकर दिल्ली पुलिस ने बैंकों को नोटिस भेजा था और संदिग्ध खातों का पूरा ब्यौरा मांगा था। बता दें कि बीते साल 20 दिसंबर को CAA विरोध को लेकर हिंसक प्रदर्शन हुआ था। इस प्रदर्शन के बाद 30 अधिक मामले दर्ज किए गए थे और 146 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। वहीं PFI के संदिग्ध दानिश से पूछताछ में दिल्ली पुलिस को यह जानकारी हासिल हुई कि संगठन न सिर्फ विरोध प्रदर्शनों में शामिल था, बल्कि दिल्ली हिंसा (Delhi Burns) में भी यह मुख्य रूप से शामिल था। फिलहाल दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल लगातार इस मामले की जांच कर रही है और गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ कर रही है। PFI के खिलाफ कार्रवाई करते हुए अभी तक उसके 108 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि PFI के 25 पदाधिकारी और सदस्य पहले ही गिरफ्तार किए जा चके हैं।

दिल्ली देंगे में आतंकवादी उमर खालिद का हाथ

Prabhat Jain

Share.