website counter widget

योगी राज में शौचालय को मंदिर बनाकर पूज रहे लोग

0

भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party ) यानि भगवाधारी, अब जब देश में भगवाधारियों की सरकार है तो अस्पताल हो या कोई सरकारी दफ्तर, बस हो या फिर कोई बड़ी इमारत सब पर भगवा रंग आसानी से दिख जाता है। घर, दफ्तर, इमारत तक तो ठीक था, लेकिन कुछ लोगों के लिए भगवा रंग इतना पूज्यनिय हो गया कि भगवा रंग से रंगे शौचालय कि भी पूजा करने लगे। योगी राज में ऐसा ही कुछ हो रहा है, जहां पर शौचालय को मंदिर बनाकर पूजा जा रहा था।

उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh ) में योगी राज आने के बाद हर जगह भगवा छा गया। प्रदेश के जिले के एक गांव में जब एक ठेकेदार ने शौचालय को भी भगवा रंग से रंग कर उस पर ताला लगा दिया तो लोगों ने शौचालय को मंदिर समझ पूजना शुरू कर दिया। किसी को पता नहीं था कि यह क्या है, इसलिए लोगों ने भगवा रंग देखकर उसे मंदिर मान लिया। लगभग एक साल तक लोग ऐसे ही पूजा करते रहे। इसके बारे में मोदाहा नगर पंचायत के चेयरमैन राम किशोर का कहना है कि यह सार्वजिनक शौचालय था और इसे एक साल पहले नगर पालिका परिषद ने बनाया था। ठेकेदार ने इसे भगवा रंग में रंग दिया जिससे लोगों में भ्रम हो गया और उन्होंने मंदिर समझकर इसकी पूजा शुरु कर दी। लोग ऐसा काफी दिनों से कर रहे हैं और अब जाकर इस मामले का खुलासा हुआ है।

क्यो बंद पड़ा है शौचालय

शौचालय के मंदिर बनने कि सच्चाई से तो पर्दा उठ गया, लेकिन जनता के लिए बनाया गया शौचालय अभी तक नहीं खोला गया। मामला सामने आने के बाद अधिकारी एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाने में जुटे हुए हैं। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में स्वच्छ भारत अभियान के तहत बनाए गए शौचालयों बनाए गए, लेकिन कई शौचालयों का शुभारंभ भी नहीं किया गया।

    -Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.