मनीष तिवारी और हंसराज हंस को बताना होगा मनीष सिसोदिया ने भ्रष्टाचार किया या नहीं

0

दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) के बाद आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) एक बार फिर प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता पर काबिज हो गई है। (Manish Sisodia Sent Notice) रविवार को सीएम पद की शपथ लेने के बाद अब मंत्रालय का बटवारा भी कर दिया गया है. आपको बता दें के विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) के एक दिन पहले भाजपा नेता प्रवेश वर्मा (BJP Leader Pravesh Verma) उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (AAP Manish Sisodia) पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था। भाजपा नेता प्रवेश वर्मा दिल्ली चुनाव में खूब चर्चा में रहे थे. मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) के ओएसडी के सीबीआई (SBI) द्वारा गिरफ्तार करने पर प्रवेश वर्मा का कहना था कि अजीब लग रहा है, यह पार्टी भ्रष्टाचार के आंदोलन से शुरू हुई थी. अन्ना जी भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहे थे, लेकिन आंदोलन से जन्मी पार्टी आज खुद ही भ्रष्टाचार में लिप्त हो गई है. इसके अलावा और भी कई भाजपा नेताओ ने भी आम आदमी पार्टी और मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था. इसके बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia Sent Notice) ने भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा (BJP Leader Manish Sisodia) को मानहानि का नोटिस भेजा था.

Delhi Election 2020 Result : AAP की प्रचंड जीत, समर्थकों ने मनाया जश्न

इसके अलावा प्रवेश वर्मा (Parvesh Verma) ने सीएम केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) पर निशाना साधते हुए कहा कि जब अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) कहते थे,  (Manish Sisodia Sent Notice) किसी को भी रिश्वत नहीं लेने देंगे तो हमें नहीं पता था उनके कहने का मतलब यह है कि हमारे अलावा किसी और को रिश्वत नहीं लेने देंगे. यानी कि वही रिश्वत ले सकते हैं और किसी को नहीं लेने देंगे. प्रवेश वर्मा (Parvesh Verma) ने कहा था कि पहली बार सुना है कि देश में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के कार्यालय में रंगे हाथों कोई पकड़ा गया है. भ्रष्ट ओएसडी को हमने नियुक्त नहीं किया था, पिछले पांच सालों से उनकी सेवा कर रहा था. वो गलत काम कर पैसे उन्हें पहुंचा रहा था, मनीष सिसोदिया को इस मामले में जवाब देना चाहिए.

आपको बता दें कि दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia Sent Notice) ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले भाजपा के सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा को विगत 8 फ़रवरी को कानूनी नोटिस भेजा था। सिसोदिया ने अपने अधिवक्ता इरशाद द्वारा भेजे गए नोटिस में मांग की थी कि भाजपा (BJP) नेता नोटिस प्राप्त करने के 24 घंटे के भीतर लिखित में माफी मांगे या फिर आपराधिक मानहानि समेत कानूनी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार रहें। नोटिस में इरशाद ने कहा था कि सात फरवरी को एक संवाददाता सम्मेलन में वर्मा ने उनके मुवक्किल के खिलाफ बिल्कुल गलत और मानहानि करने वाले बयान दिए थे।

Congress की Alka Lamba ने AAP के गाल पर जड़ा थप्पड़, Video Viral

लेकिन अब आपको बता दें कि देश के सबसे लोकप्रिय शिक्षा मंत्री श्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia Sent Notice) पर 2Kकरोड़ के घपले का झूठा आरोप लगाने वाले BJPनेता प्रवेश वर्मा,विजेंद्र गुप्ता,मनजिंदर सिरसा को कोर्ट ने Rs.20000 की जमानत पर छोड़ दिया है और साथ ही कोर्ट ने अगली तारीख पर मनोज तिवारी,हँसराज हंस के पेश नही होने पर भारी जुर्माना लागाने को बोला।

बता दें कि प्रवेश वर्मा पर आरोप है कि उन्होंने सिसोदिया के ओएसडी गोपाल कृष्ण माधव की गिरफ्तारी के बाद कहा था कि यह पैसा मनीष सिसोदिया तक भी पहुंच रहा था। ये लोग उसी पैसे से शाहीन बाग में बिरयानी खिला रहे थे और चुनाव लड़ रहे हैं। यहां बता दें कि सीबीआइ ने सिसोदिया (Manish Sisodia Sent Notice) के ओएसडी गोपाल कृष्ण माधव को दो लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है।

गोपाल कृष्ण माधव (Gopal Krishna Madhav) की गिरफ्तारी के बाद मनीष सिसोदिया ने कहा था कि आरोपित को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए। अगर उन्हें पहले ही पता होता कि गोपाल (Gopal Krishna Madhav)रिश्वत खोर है तो उसे पहले ही अपने यहां से निकाल चुके होते। हालांकि भाजपा नेता ने कहा कि आरोपित को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी ही। अगर अन्य किसी नेता का भी नेता लेता है तो उसके खिलाफ भी जांच होनी चाहिए।

इससे पहले कल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने सोमवार को कैबिनेट बंटवारे को अंतिम रूप दे दिया। केजरीवाल (Manish Sisodia Sent Notice)  अपने पास कोई भी विभाग नहीं रखेंगे। सत्येंद्र कुमार जैन को दिल्ली जल बोर्ड का विभाग दिया गया है। इससे पहले अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री के तौर पर पदभार संभाला। दिल्ली सचिवालय में उनके मंत्रिमंडल के सदस्य मनीष सिसोदिया, सत्येन्द्र जैन, राजेन्द्र पाल गौतम, इमरान हुसैन, कैलाश गहलोत और गोपाल राय ने भी दिल्ली सचिवालय में पदभार संभाला।

मनीष सिसोदिया को फिर से दिल्ली का उपमुख्यमंत्री (Manish Sisodia Sent Notice)  बनाया गया है। साथ ही शिक्षा, वित्त, प्लानिंग, जमीन और भवन, विजिलेंस, पर्यटन,सर्विस के साथ-साथ आर्ट, कल्चर और भाषा विभाग की जिम्मेदारी भी दी गई है। इसके अलावा गोपाल राय को पर्यावरण मंत्रालय दिया गया है। यह पहले कैलाश गहलोत के पास था। महिला व बाल कल्याण विकास मंत्रालय पहले मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) के पास था अब उसे राजेंद्रपाल गौतम को दिया गया है। बाकी सभी मंत्रालय पुराने मंत्रियों के पास हैं।

दिल्ली चुनाव में AAP का घोषणा पत्र जारी, जाने AAP भाजपा कांग्रेस के घोषणापत्र में क्या अंतर है

-मृदुल त्रिपाठी

Share.