website counter widget

राज्यसभा के 250वें सत्र में पीएम मोदी का भाषण

0

संसद  के  शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) की आज से शुरुआत हो चुकी है। इसमें कई विषयों को लेकर हंगामा हो रहा है। सत्र के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi ) ने सभी सांसदों को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत में कहा कि राज्यसभा के 250वें सत्र में शामिल होना मेरा सौभाग्य है। संसद भारत की विकास यात्रा का प्रतिबिंब है। 250 सत्र ये अपने आप में समय व्यतीत हुआ ऐसा नहीं है। एक विचार यात्रा रही। समय बदलता गया, परिस्थितियां बदलती गई और इस सदन ने बदली हुई परिस्थितियों को आत्मसात करते हुए अपने को ढालने का प्रयास किया।

योगी सरकार ने आगरा का नाम बदलकर अग्रवन….

बाबा साहेब अंबेडकर को याद कर भावुक हुए पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने सम्बोधन (Prime Minister Narendra Modi address Parliament ) में बाबा साहेब अंबेडकर को भी याद किया और भावुक हो गए। उन्होने कहा कि इस सदन के दो पहलू खास हैं स्थायित्व और विविधता। यहां वैज्ञानिक, कलाकार और खिलाड़ी जैसे तमाम व्यक्ति आते हैं जो लोकतांत्रिक तरीके से चुने नहीं जाते हैं। बाबा साहेब इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं। वे लोक सभा के लिए नहीं चुने जा सके लेकिन वे राज्यसभा पहुंचे। बाबा साहेब अंबेडकर के कारण देश को बहुत कुछ प्राप्त हुआ।

अब सरकार करने जा रही है ये सेवा भी फ्री

पीएम (PM Narendra Modi) ने आगे कहा कि स्थायित्व इसलिए महत्वपूर्ण है कि लोकसभा तो भंग होती रहती है, लेकिन राज्य सभा कभी भंग नहीं होती। विविधता इसलिए महत्वपूर्ण है कि क्योंकि यहां राज्यों का प्रतिनिधित्व प्राथमिकता है। इस सदन का एक और लाभ भी है कि हर किसी के लिए चुनावी अखाड़ा पार करना बहुत सरल नहीं होता है, लेकिन देशहित में उनकी उपयोगिता कम नहीं होती है, उनका अनुभव, उनका सामर्थ्य मूल्यवान होता है। हमारे देश में एक लंबा कालखंड ऐसा था जब विपक्ष जैसा कुछ खास नहीं था।उस समय शासन में बैठे लोगों को इसका बड़ा लाभ भी मिला, लेकिन उस समय भी सदन में ऐसे अनुभवी लोग थे जिन्होंने शासन व्यवस्था में निरंकुशता नहीं आने दी। ये हम सबके लिए स्मरणीय है। सदन संवाद के लिए होना चाहिए, संवाद के लिए होना चाहिए। भारी बहस हो लेकिन रुकावटों के बजाय संवाद का रास्ता चुनें। एनसीपी और बीजेडी ने तय किया है कि वे वेल में नहीं जाएंगे, लेकिन फिर भी न एनसीपी न बीजेडी की राजनीतिक यात्रा में कोई रुकावट आई है।

सोशल मीडिया पर फिर हुआ वायरल लता मंगेशकर के निधन का मैसेज

       – Ranjita Pathare

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.