website counter widget

INX Media Case : कानून की मार चिदम्बरम बार-बार गिरफ्तार

0

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (Former Finance Minister P. Chidambaram) की  मुश्किलें खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। उनकी बार-बार गिरफ्तारी हो रही है। अब आज यानि बुधवार को फिर से तिहाड़ जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (ED Arrests P Chidambaram) को गिरफ्तार कर लिया गया। जेल में ही दो घंटे पूछताछ के बाद ED ने चिदंबरम को गिरफ्तार किया। चूंकि वे पहले से ही जेल में बंद है इसीलिए इस बार उनकी गिरफ्तारी कागजों पर ही हुई।

आतंकियों से एनसीपी नेताओं के संबंध

जेल में हुई पूछताछ

ईडी को अभी तक चिदंबरम को तिहाड़ जेल से बाहर निकालने का आदेश नहीं मिला है इसीलिए उन्होने जेल में ही सुनवाई की (ED Arrests P Chidambaram)।  पूछताछ के लिए तिहाड़ जेल में ईडी के तीन अधिकारियों की टीम पहुंची थी। इसके पहले स्थानीय अदालत ने केन्द्रीय जांच एजेंसी को पी चिदंबरम से पूछताछ की इजाजत दे दी  थी। आज हुई सुनवाई के दौरान चिदंबरम की पत्नी नलिनी और बेटे कार्ति भी तिहाड़ जेल परिसर पहुँच गए थे। चिदम्बरम  55 दिन सीबीआई और न्यायिक हिरासत में बिता चुके हैं। उन्हें 21 अगस्त को गिरफ्तार किया गया था।

15 दिन में हेमा मालिनी के गाल जैसी सड़क बना देंगे: कैबिनेट मंत्री

क्या था मामला

वित्त मंत्री के रूप में चिदंबरम (P Chidambaram) के कार्यकाल के दौरान 2007 में 305 करोड़ रुपये का विदेशी धन प्राप्त करने के लिए आईएनएक्स मीडिया समूह को विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड की मंजूरी के मामले में अनियमितता बरतने का आरोप लगाया था। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता की गिरफ्तारी के बाद कपिल सिब्बल ने कहा था कि हम इसका विरोध करते हैं। ईडी को इस मामले में गिरफ्तारी की जरूरत ही नहीं है। सीबीआई की एफआईआर पर ही ईडी ने केस दर्ज किया, फिर कस्टडी की क्या जरूरत है? अपराध वही है। सभी ट्रांजेक्शन सेम है, केस भी सेम है, फिर दोबारा कस्टडी की मांग क्यों? वहीं ईडी ने कहा था कि मनी लांड्रिंग अपने आप में एक अपराध है। एक केस की जांच दूसरे से अलग होती है। चिदंबरम भले ही सीबीआई की कस्टडी में रहे हों, उन्हें गिरफ्तार किया गया हो, लेकिन ईडी को उनकी गिरफ्तारी और कस्टडी का  हक है।

शिवराज फिर बनने जा रहे सीएम

       – Ranjita Pathare

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.