44th Emergency Anniversary : देश में पिछले 5 साल से लगी है इमरजेंसी!

0

25 जून 1975 आज से ठीक 44 साल (Emergency Anniversary 2019) पहले देश में ऐसा कुछ हुआ, जिसके बारे में कभी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी। पूरे भारत में आज के ही दिन उस समय तहलका मच गया था, जब आपातकाल (The Emergency)  का ऐलान किया गया। पहले तो किसी को कुछ समझ नहीं आया। प्रेस वालों की लाइट काट दी गई, कई तरह की बंदिशें लगा दी गई, हंगामा करने वाले और विपक्षी लोगों को जेल में डाल दिया गया , लेकिन जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ( Indira Gandhi, Former Prime Minister of India) की आवाज रेडियो (All India Radio) पर सुनी तब जाकर पता चला की देश में आपातकाल लग चूका है।

आज उसी इमरजेंसी की बरसी (Emergency Anniversary 2019) है। इस बरसी पर बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने भाजपा (BJP ) सरकार पर टिप्पणी की और कहा कि देश में पीछले पांच साल से आपातकाल लगा हुआ है।

भारत में सुपर इमरजेंसी (Emergency Anniversary 2019)

जानकरी के अनुसार, आज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  (CM Mamata Banerjee) ने एमरजेंसी (Emergency)  पर ट्वीट किया। सीएम बनर्जी ने लिखा कि पिछले पांच साल में भारत में सुपर इमरजेंसी के हालात हैं। हमें इतिहास से काफी कुछ सीखना चाहिए और लोकतांत्रिक संस्थानों की रक्षा करने के लिए लड़ते रहना चाहिए। पिछले काफी समय से भाजपा और टीएमसी के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू है। लोकसभा चुनाव के दौरान दोनों पार्टियों में हिंसक झड़प भी शुरू हो गई, जो अभी भी जारी है।

सीबीआई का मामला हो, लोकसभा चुनाव या फिर पंचायत चुनाव ममता बनर्जी आक्रामक तरीके से भाजपा पर हमला करती हैं। सीएम  बनर्जी के मन में भाजपा के लिए भरे गुस्से का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सीएम बनर्जी ने नीति आयोग की बैठक में शामिल होने से भी इंकार कर दिया था। दोनों दलों के कार्यकर्ता हिंसा पर उतरे हुए हैं, कई कार्यकर्ताओं की हत्या की गई, जय श्रीराम को लेकर राज्य में हालात बेकाबू होते गए हैं।

हम सब जानते हैं कि 25 जून, 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (( Indira Gandhi, Former Prime Minister of India) ) ने देश में आपातकाल (Emergency Anniversary 2019) लागू करने का ऐलान किया था। इसके बाद लगभग 2 वर्ष यानी मार्च 1977 तक आपातकाल चला था। इस दौरान सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वालों को जेल में डाल दिया जाता था। अभी भी भाजपा के कई नेता कई बार आपातकाल के कारण कांग्रेस को कोसते रहते हैं।

Share.