अब लोगों को पेट्रोल 40 रुपए लीटर उपलब्ध होगा !

0

पेट्रोल-डीजल के दाम (Fuel Rs 40 per Liter In Hyderabad ) ने जनता की कमर तोड़कर रख दी है। पेट्रोल-डीजल की कीमत आसमान छू रही है। जनता को इंतज़ार है कि कब कीमतें ज़मीन पर उतरेंगी, परन्तु केंद्र सरकार कीमतों पर लगाम लगाने में नाकाम हो रही है।  पिछले कई सालों से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बड़ा इजाफा हुआ परन्तु अब जनता के लिए एक खुशखबरी आ रही है | अब लोगों को पेट्रोल 40 रुपए लीटर उपलब्ध होगा |

ड्राइविंग लाइसेंस से इस तरह करें आधार कार्ड को लिंक

उल्लेखनीय है कि देश में बढ़ते पेट्रोल-डीजल के दाम सबसे बड़ी परेशानी हैं, जिनसे आम लोग जूझ रहे हैं| इससे बचने के लिए लोगों ने सीएनजी फ्यूल का इस्तेमाल भी शुरू किया था, लेकिन यह देश की सीमित हिस्सों में ही मौजूद है| ऐसे में तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के 45 वर्षीय मेकैनिकल इंजीनियर सतीश कुमार (Hyderabad Mechanical Engineer Professor Satish Kumar) पुरानी बेकार प्लास्टिक रिसाइकल कर उसे फ्यूल (Fuel Rs 40 per Liter In Hyderabad ) में तब्दील किया है| प्रोफेसर ने बताया कि तीन प्रक्रिया में होने वाली इस पूरी प्रोसेस को प्लास्टिक पायरोलिसिस कहा जाता है|

प्रोफेसर सतीश कुमार के अनुसार (Fuel Rs 40 per Liter In Hyderabad ), “यह पूरी प्रक्रिया निर्वात से होती है, जिससे वायु प्रदूषण भी नहीं होता| यह एक सरल प्रक्रिया है, जिसमें पानी की आवश्यकता नहीं होती है, साथ ही पानी का व्यर्थ बहना भी बच जाता है| साल 2016 से लेकर अब तक सतीश कुमार 50 टन प्लास्टिक को पेट्रोल में बदल चुके हैं| रिसाइकल प्रक्रिया के लिए उस प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है, जो किसी भी तरह के इस्तेमाल में नहीं लाया जा सकता है|”

Airtel लाया फ्री डाटा ऑफर, मिलेगा 20 जीबी तक का डाटा

सतीश कुमार ने बताया, “मैं हर रोज 200 किलो प्लास्टिक से 200 लीटर पेट्रोल बनाता हूं| इसके बाद स्थानीय व्यापारियों को 40 से 50 रुपए प्रति लीटर की दर पर बेचते हैं| पीवीसी और पीईटी को छोड़कर हर तरह का प्लास्टिक इस प्रक्रिया में इस्तेमाल में लाया जा सकता है|”

गौरतलब है कि प्लास्टिक पिघलाकर तेल बनाने वाले प्रोफेसर सतीश कुमार ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय के साथ पंजीकृत हाइड्रोक्सी प्राइवेट लिमिटेड के नाम की एक कंपनी की शुरुआत की है| प्रोफेसर सतीश कुमार अपनी इस ग़ज़ब खोज को लेकर कहते हैं कि इस प्रक्रिया से प्लास्टिक को डीजल, विमानन ईंधन और पेट्रोल में बदलने के लिए रिसाइकल करने में मदद मिलती है| करीब 500 किलोग्राम गैर-पुनर्नवीनीकरण प्लास्टिक 400 लीटर ईंधन का उत्पादन कर सकता है|

हालांकि, यह पेट्रोल वाहनों की सेहत के लिए कितना बेहतर है, इसका टेस्ट होना बाकी है|

Video : आपका ‘आधार’ दिलाएगा 30 हजार, इस तरह उठाएं फायदा

Share.