वीडियो शेयर करने पर राहुल को नोटिस

0

सोशल मीडिया पर आने वाले वीडियो और फोटो बिना सोचे-समझे फॉरवर्ड करना आपको मुश्किलों में डाल सकता है। इस बार इसका शिकार खुद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हो गए हैं। 15 जून को दलित लड़कों को नग्न कर घुमाए जाने वाला वीडियो शेयर करने पर राहुल गांधी मुश्किल में आ गए हैं। महाराष्ट्र स्टेट कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स ने कारण बताओ नोटिस दे दिया है।

जवाब दे राहुल

आयोग ने जुवेनाइल जस्टिस एक्ट की धारा 74 और पॉक्सो एक्ट की धारा 23 के तहत नोटिस भेजा है। राहुल से 10 दिन के अंदर मामले पर जवाब मांगा गया है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र के जलगांव निवासी तीन नाबालिग दलित लड़कों को कथित तौर पर सवर्णों के कुएं में तैरने को लेकर पीटा और निर्वस्त्र घुमाया गया था।

राहुल ने किया था शेयर

राहुल गांधी ने इस वीडियो को अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर कर लिखा था कि महाराष्ट्र के इन दलित बच्चों का अपराध सिर्फ इतना था कि ये एक सवर्ण कुएं में नहा रहे थे। आज मानवता भी आखिरी तिनकों के सहारे अपनी अस्मिता बचाने की कोशिश कर रही है। आरएसएस-भाजपा की मनुवाद की नफरत की जहरीली राजनीति के खिलाफ हमने अगर आवाज़ नहीं उठाई तो इतिहास हमें कभी माफ नहीं करेगा।

कांग्रेस की सफाई

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा कि यह वीडियो सोशल मीडिया पर पहले से ही वायरल था और राहुल गांधी अकेले व्यक्ति नहीं थे, जिन्होंने इसे ट्वीट किया था। यह भाजपा द्वारा असली मुद्दे से लोगों का ध्यान भटकाने का जानबूझकर किया गया प्रयास है।

Share.