website counter widget

भारतीयों ने अभिजीत बनर्जी कि सोच को नकारा: केंद्रीय मंत्री

0

नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने अर्थशास्त्र के लिए 2019 के नोबेल पुरस्कार के लिए चुने गये भारतीय-अमेरिकी अभिजीत बनर्जी(Abhijeet banerjee) को शुक्रवार को पूरी तरह वामपंथ की ओर झुकाव वाला बताया और कहा कि उनकी सोच को भारतीयों ने नकार दिया. गोयल ने एक बातचीत में कहा, ‘मैं अभिजीत बनर्जी को नोबेल पुरस्कार जीतने की बधाई देता हूं. आप सभी जानते हैं कि उनकी सोच पूरी तरह वाम की ओर झुकाव वाली है. उन्होंने न्याय को समर्थन दिया था और न्याय के बारे में बड़े गुणगान गाए थे, भारत की जनता ने उनकी सोच को पूरी तरह नकार दिया.’

एक पत्रकार के यह कहने पर कि अर्थव्यवस्था में ‘लेफ्ट-राइट’ नहीं होता, गोयल ने कहा, ‘मैं इससे कहां इनकार कर रहा हूं. और मुझे गर्व है कि एक भारतीय को नोबेल पुरस्कार मिला. लेकिन जो उनकी कही हुई बात है, जरूरी नहीं है कि हमें उससे सहमत होना चाहिए. खासतौर पर जब जनता ने ही उनकी सलाह को नकार दिया. मुझे नहीं लगता कि हमें इससे सहमत होने की आवश्यकता है.’ भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्‍त्री अभिजीत बनर्जी को उनकी पत्‍नी एस्‍टर डुफ्लो और हार्वर्ड के प्रोफेसर माइकल क्रेमर के साथ संयुक्‍त रूप से इस साल का नोबेल दिया गया है. इसके बाद ही से उन्‍हें कई नेताओं की आलोचनाओं का शिकार होना पड़ा रहा है. नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी ने कलकत्ता विश्वविद्यालय, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय और हार्वर्ड विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है. इस समय वे मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी) में फोर्ड फाउंडेशन इंटरनेशनल प्रोफेसर हैं.

 

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने अर्थशास्त्र में इस साल का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize for Economics) पाने वाले भारतीय मूल के अमेरिकी अर्थशास्त्री अभिजीत बनर्जी (Abhijit Banerjee) को बधाई दी है. प्रियंका गांधी ने ये भी बताया कि अर्थशास्त्री बनर्जी ने कांग्रेस को न्यूनतम आय योजना (NYAY) पर सलाह भी दी थी. लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान कांग्रेस ने इस NYAY स्कीम का ऐलान किया था. प्रियंका ने कहा कि उम्मीद है कि न्याय एक दिन हकीकत बनेगा.

 

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.