गंगा को लेकर नीतीश का केंद्र पर हमला

0

बिहार में भाजपा और जेडीयू के रिश्तों की डोर कमजोर होती जा रही है। पहले से ही दोनों के गठबंधन की डोर कमजोर होती नज़र आ रही है। इस बीच नीतीश कुमार ने भाजपा पर हमला कर दिया है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जलवायु परिवर्तन पर केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय के ईस्ट इंडिया कॉन्क्लेव कार्यक्रम में कहा कि गंगा की न तो निर्मलता बची है और न ही अविरलता। उन्होंने गडकारी की जलमार्ग परियोजना को भी फ्लॉप करार दिया।

गंगा में गाद की समस्या

नीतीश कुमार ने कहा कि गंगा नदी में वर्तमान में गाद की समस्या है। खासतौर पर बिहार में ऐसा है। केंद्र सरकार का नेशनल वॉटरवे-1 प्रोजेक्ट तब तक सफल नहीं हो सकता, जब तक गाद की समस्या का निस्तारण नहीं किया जाता।

सरकार गलत आंकड़े दे रही है

नीतीश कुमार ने नमामि गंगे परियोजना को लेकर सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा, “केंद्र सरकार गंगा को लेकर गलत आंकड़े दे रही है। गंगा की निर्मलता और अविरलता कुछ भी नहीं बची है। गंगा में काई दिखने लगी है। बेगूसराय में गंगा का पानी काला हो गया है। कई जगहों पर गंगा नाले के पानी जैसी हो गई है।

जहाज भी फंस गया था

नीतीश ने आगे कहा कि हाल ही में गंगा जलमार्ग पर बक्सर के पास अपस्ट्रीम में एक जहाज फंस गया था। यही नहीं, उसे निकालने आने वाला टैगवेसल 10 किमी पहले ही फंस गया था।

गडकरी पर पलटवार

नीतीश बयान को केंद्रीय जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी पर पलटवार माना जा रहा है। बता दें कि कुछ दिनों पहले ही नितिन गडकरी ने कहा था कि गंगा को प्रदूषित कर रहे 251 उद्योगों को बंद किया जा चुका है और 938 उद्योगों से निकलने वाले प्रदूषण की रीयल टाइम मॉनिटरिंग की जा रही है। इसके साथ ही गंगा के पूरे मार्ग में ऐसे 211 बड़े नालों की पहचान की गई, जो नदी को प्रदूषित कर रहे हैं।

Share.