राहुल गांधी के खिलाफ ‘विशेष अधिकार हनन’ प्रस्ताव

1

लोकसभा के मानसून सत्र के तीसरे दिन मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान राहुल ने सत्ता में बैठी सरकार पर जमकर हमला किया| उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा से लेकर राफेल डील तक कई मुद्दे उठाए| इस दौरान सदन में काफी हंगामा होता रहा| राहुल के भाषण के विरोध में सरकार विशेष अधिकार हनन प्रस्ताव लाने की तैयारी में है|

दरअसल, राहुल गांधी ने कहा था, “रक्षामंत्री ने कहा कि राफेल डील पर फ्रांस के साथ एक गोपनीय संधि हुई है| इस बारे में जानने के लिए मैं फ्रांस के राष्ट्रपति से व्यक्तिगत रूप से मिला और पूछा कि क्या ऐसी कोई संधि हुई है| इस पर राष्ट्रपति ने कहा कि ऐसी कोई संधि नहीं हुई है|” राहुल गांधी के आरोपों के जवाब में निर्मला सीतारमण ने कहा कि राहुल की ये बातें झूठ हैं| रक्षामंत्री के मुताबिक, फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा था कि राफेल डील की डिटेल्स सबके सामने नहीं लाई जा सकती हैं|

राहुल के खिलाफ ‘विशेष अधिकार हनन’ प्रस्ताव

सदन में राहुल गांधी के आरोपों के खिलाफ सरकार अब उनके खिलाफ विशेष अधिकार हनन’ प्रस्ताव लेकर आने वाली है| कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गंभीर आरोपों का रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने करारा जवाब दिया| उन्होंने कहा कि 25 जनवरी 2008 को फ्रांस के साथ सीक्रेसी एग्रीमेंट कांग्रेस की ही सरकार ने किया था, हम तो इसे आगे बढ़ा रहे हैं। इस एग्रीमेंट में राफेल डील भी शामिल है| दरअसल, राहुल गांधी का कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  के दबाव में रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने राफेल डील को लेकर देश से झूठ बोला है| रक्षामंत्री ने कहा कि जब कांग्रेस की सरकार थी. उस समय तत्कालीन रक्षामंत्री एके एंटनी ने फ्रांस की सरकार के साथ सीक्रेसी एग्रीमेंट्स किया था|

Share.