website counter widget

वित्तमंत्री के पति ने खोली सरकार की पोल

0

देश की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है। महंगाई बढ़ रही है, लेकिन फिर भी सरकार यह मानने को तैयार नहीं है कि अर्थव्यवस्था की हालत खराब है। अब इस बारे में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति (Husband of Finance Minister Nirmala Sitharaman) और आंध्र प्रदेश सरकार (Government of Andhra Pradesh) के पूर्व संचार सलाहकार पराकला प्रभाकर (Parakala Prabhakar)  ने भी सरकार के फैसले का विरोध किया है। उन्होने कहा कि अब सरकार को मनमोहन सिंह के अनुसार काम करना चाहिए।

सीएम कमलनाथ ने नरसिंहपुर को दी करोड़ों की सौगात

वित्तमंत्री के पति ने ही एक लेख लिखकर सारी पोल खोल दी है। उन्होने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत खराब है और इसे सुधारने के लिए सरकार को जरूरी कदम उठाने चाहिए (Economist Parakala Prabhakar)। सरकार इस संकट से निपटने के लिए कोई रोडमैप नहीं पेश कर पाई है। हैदराबाद की एक निजी कंपनी राइट फोलियो के मैनेजिंग डायरेक्टर पराकला प्रभाकर का कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत खराब है। सरकार भले इससे इनकार करे, लेकिन जो आंकड़े सामने आ रहे हैं, उनसे यह पता चलता है कि एक-एक कर कई सेक्टर संकट के दौर का सामना कर रहे हैं।

Nobel Prize For Economics : भारत के अभिजीत बनर्जी को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार

उन्होने लेख में लिखा है कि भारतीय निजी उपभोग में गिरावट आई है और यह 18 महीने के निचले स्तर 3.1 फीसदी तक पहुंच गया है। इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 6 साल के निचले स्तर पर 5 फीसदी पर पहुंच गई है। बेरोजगारी दर 45 साल के ऊपरी स्तर तक पहुंच गई है (Economist Parakala Prabhakar)। इस बारे में कम प्रमाण हैं कि सरकार के पास इन चुनौतियों से निपटने की रणनीतिक दृष्टि है। पार्टी नेतृत्व को शायद इस बात का आभास था, इसीलिए इस बार लोकसभा चुनाव में पार्टी ने अपने आर्थ‍िक प्रदर्शन की कोई बात नहीं की और समझदारी के साथ एक दृढ़ राजनीतिक, राष्ट्रवादी, सुरक्षा का एजेंडा पेश किया। भाजपा सरकार को नेहरू की आलोचना करने के बजाय, पीवी नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह के आर्थिक मॉडल से सीख लेनी चाहिए।

कमलनाथ सरकार से ख़फ़ा भारतीय किसान संघ करेगा प्रदर्शन

  -Ranjita Pathare

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.