सेना की मिलिट्री पुलिस में अब महिलाएं

0

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने सेना की मिलिट्री पुलिस में जवानों के रूप में महिलाओं को शामिल करने का निर्णय लिया है। सेना के मिलिट्री पुलिस में 20 प्रतिशक महिलाओं को शामिल करने का फैसला हुआ है। इसको श्रेणीबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा।

रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को भारत-चीन सीमा से लगे अरुणाचल प्रदेश के दिबांग घाटी जिले में अग्रिम इलाकों का दौरा किया। सीतारमण ने निचली दिबांग घाटी जिले में एक पुल का उद्घाटन किया। रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि मंत्री सीतारमण ने वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ लगे अग्रिम इलाकों के ऊपर से विमान से गुज़री और जिले में 5,300 फुट की ऊंचाई पर स्थित अन्य सैन्य चौकी का दौरा किया।

सीतारमण के साथ पूर्वी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एमएम नरवाने, स्पीयर कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिग लेफ्टिनेंट जनरल राजीव सिरोही और अन्य सैन्य एवं असैन्य अधिकारी शामिल थे। मंत्री को दिबांग घाटी में सैन्य बलों की रक्षा तैयारियों और अग्रिम चौकी में परिचालन की स्थिति के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने सैनिकों के साथ वर्तालाप की और ऐसे दुर्गम इलाकों में देश की सीमाओं की रक्षा करने में उनके समर्पण और सेवा की सराहना की।

बता दें कि इससे पहले आर्मी चीफ बिपिन रावत ने भी फौज में महिलाओं को शामिल किए जाने को लेकर बड़ा बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि महिलाएं अभी सीमा पर जंग के लिए भेजे जाने लायक तैयार नहीं है। रावत ने कहा था कि महिलाओं पर उनके बच्चों की जिम्मेदारी होती है। एक महिला सेना कमांडिंग ऑफिसर को मातृत्व अवकाश के रूप में 6 माह की छुट्टी नहीं दी जा सकती है, क्योंकि वह अपनी इकाई छोड़कर लंबे समय तक बाहर नहीं रह सकती है।

 

कुशाग्र

 

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.