website counter widget

निर्भया के दोषियों को जल्द हो सकती है फांसी, लेकिन…

0

हैदराबाद की प्रियंका रेड्डी (Priyanka Reddy Murder Case ) के साथ बलात्कार और हत्या के बाद आज पूरा देश प्रदर्शन कर रहा है। आरोपियों को सज़ा दिलाने की मांग की जा रही है। लोग कैन्डल मार्च निकाल रहे हैं। रैलियों का आयोजन कर रहे हैं। ऐसा ही कुछ सात साल पहले भी हुआ था। साल 2012 में भी सड़क से लेकर संसद भवन तक बलात्कारियों को कड़ी से कड़ी सज़ा देने की मांग की जा रही थी, जो अभी भी पूरी नहीं हुई है। तब भी प्रशासन से कहा था बलात्कारियों(Nirbhaya Gangrape Case) को सख्त से सख्त सज़ा दी जाएगी और आज भी यही कहा जा रहा है, लेकिन सच्चाई हमारे सामने है। अब सात साल बाद प्रशासन ये कहकर तसल्ली दे रहा है कि निर्भया के हत्यारों को जल्द ही फांसी पर लटकाया जाएगा।

महू में 5 साल की मासूम से दरिंदगी के बाद हत्या

प्रशासन के बहाने

सात साल हो गए, लेकिन अभी तक निर्भया के दोषियों को फांसी तो दी नहीं गई और जब समय आने वाला है कि फांसी दे तो जेल प्रशासन का नया बहाना सामने आ गया है। अब प्रशासन का कहना है कि उनके पास जल्लादों की कमी है।  निर्भया(Nirbhaya Gangrape Case) के दोषियों को फांसी पर चढ़ाने के लिए कोई जल्लाद उपलब्ध नहीं है। अगले एक महीने में कभी भी फांसी की तारीख आ सकती है। दोषियों को कोर्ट द्वारा ब्लैक वॉरंट जारी किए जाने के बाद किसी भी दिन फांसी पर चढ़ाया जा सकता है।

सनकी आशिक ने लड़की को चाकू से गोदा, बाहर आईं आंतें

एक वरिष्ठ जेल अधिकारी ने कहा कि हमारे समाज में फांसी की सजा अक्सर नहीं दी जाती है। यह रेयरेस्ट ऑफ द रेयर अपराधों के लिए ही मुकर्रर सजा है। ऐसी परिस्थिति में एक फुल टाइम जल्लाद की नियुक्ति नहीं की जा सकती है। इस नौकरी के लिए अब कोई शख्स जल्दी तैयार भी नहीं होता। संसद पर हमलों के दोषी अफजल गुरु को भी तिहाड़ में फांसी दी गई थी। अफजल की फांसी में जेल के ही एक कर्मचारी ने फंदा खींचने के लिए सहमति दे दी थी। अब कहा जा रहा है कि किसी दूसरी जेल से जल्लादों को बुलाया जा सकता है।

मंदसौर में पड़ोसी की हैवानियत का शिकार नाबालिग

            – Ranjita Pathare

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.