निर्भया के दोषियों की याचिका ख़ारिज

1

राजधानी दिल्ली में 2012 में हुए निर्भया गैंगरेप ने पूरे देश को दहला दिया था| आज निर्भया केस के लिए बड़ा दिन है| निर्भया सामूहिक दुष्कर्म मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 4 दोषियों को सुनाई गई फांसी की सजा पर सोमवार को फैसला सुनाया |  निर्भया मामले के चार आरोपियों में से तीन की याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने ख़ारिज कर दिया| गैंगरेप के चार में से तीन दोषियों मुकेश सिंह (29), पवन गुप्ता (22) और विनय शर्मा (23) ने सज़ा के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी है। इसके बाद अब इन तीन दोषियों को फांसी की सजा भुगतनी पड़ेगी| हालांकि, इन दोषियों के पास अब भी राष्ट्रपति के सामने दया याचिका लगाने का विकल्प बचा  है|

कोर्ट के फैसले से पहले ही निर्भया के मां-बाप ने उन्हें कड़ी सजा देने की अपील की थी| निर्भया की मां ने कहा, “इस घटना को 6 साल हो चुके हैं, इसके बाद भी इस तरह की घटनाएं हो रही हैं| हमारे सिस्टम ने हमें फेल कर दिया है|वहीं निर्भया के पिता ने कहा कि उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील है कि वे महिलाओं और बच्चियों पर अत्याचार की घटनाओं को रोकने के लिए सख्त कदम उठाएं| उन्होंने एक अखबार से कहा कि जब आरोपियों को फांसी होगी, तभी उन्हें और देश को तसल्ली होगी|

गौरतलब है कि प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति आर.भानुमति और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने मुकेश (29), पवन गुप्ता (22) और विनय शर्मा की याचिकाओं पर सोमवार को अपना फैसला सुनाया|

Share.