निर्भया के दोषियों की फांसी से बचने के लिए एक और चाल

0

सात साल पहले इसी महीने (दिसंबर ) की 12 तारीख के बाद सड़कों पर प्रदर्शन हो रहा था। आज के दिन निर्भया (Nirbhaya case ) जिंदगी और मौत के बीच जूझ रही थी। लोग उसके दरिंदों को चौराहे पर फांसी देने की मांग कर रहे थे। छ्ह हैवानों (Nirbhaya Convict Pawan Petition) ने निर्भया के साथ बर्बरता से बलात्कार किया और उसे मरा हुआ समझकर सड़क पर फेंक दिया था। इन हैवानों को जब पकड़ा गया तो इसमे से एक ने जेल में ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली और एक दरिंदे को नाबालिग होने का फायदा मिला, जिसके बाद वह तीन साल की सजा काटकर छूट गया। अब बचे जिन चार आरोपियों को फ़ांसी की सजा सुनाई जा चुकी है, उनकी फांसी पर भी सवाल उठने लगे हैं।

Nirbhaya Case LIVE : दोषियों की फांसी तय, सुप्रीम कोर्ट ने की याचिका खारिज

सात साल से निर्भया के परिवार वाले इंसाफ की आस में बैठे हैं, जिन्हें अब और इंतजार करना होगा। ‘निर्भया’ गैंगरेप और हत्या (Nirbhaya Gangrape) मामले के चार दोषियों में शामिल पवन गुप्ता (Nirbhaya Convict Pawan Petition) ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है कि दिसंबर 2012 में जब ये अपराध हुआ, तब वो नाबालिग (Minor) था। याचिका में आगे कहा गया है कि जांच अधिकारी ने उसकी उम्र का पता लगाने के लिए हड्डियों संबंधी जांच (Ossification Test) नहीं की। इसके साथ ही उसने जुवेनाइल जस्टिस कानून (Justice Juvenile Act) के तहत फांसी से  छूट पाने का दावा भी किया है। उसने अपनी याचिका में आगे कहा है कि जेजे कानून की धारा 7ए में प्रावधान है कि नाबालिग होने का दावा किसी भी अदालत में किया जा सकता है और इस मुद्दे को किसी भी समय यहां तक कि मामले के अंतिम निपटारे के बाद भी उठाया जा सकता है।

Nirbhaya Convicts Death Warrant Petition : निर्भया को दोषियों को फांसी नहीं!

पवन कुमार (Nirbhaya Convict Pawan Petition) कि यह याचिका गुरुवार को जज सुरेश कुमार कैत के सामने सुनवाई के लिए सूचीबद्ध (लिस्टेड) कि गई थी। पवन अभी दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है। उसने अनुरोध किया कि संबंधित प्राधिकरण को उसके नाबालिग होने के दावे का पता लगाने के लिए हड्डियों संबंधी जांच करने का निर्देश दिया जाए। पवन कुमार गुप्ता की याचिका पर आज सुनवाई टल गई। अब सुनवाई 24 जनवरी को होगी। पवन के वकील एपी सिंह ने नए दस्तावेज पेश करने का समय मांगा था, जिस पर कोर्ट ने सुनवाई टाल दी।

Delhi Nirbhaya case: निर्भया के दरिंदों का होगा अंगदान  ?

 

           – Ranjita Pathare 

 

 

 

Share.