बाबा हरदेव सिंह की बेटी संभालेंगी मिशन का कार्यभार

0

संत निरंकारी मिशन जिसकी 100 से अधिक शाखाएं कई देशों में फैली हुई है| इस मिशन की 5वीं प्रमुख माता सविंदर कौर ने बेटी सुदीक्षा को अपना उत्तराधिकारी बना दिया है| मंगलवार को बुराड़ी रोड स्थित निरंकारी आध्यात्मिक स्थल पर सुदीक्षा को कार्यभार सौंपा गया|

33 वर्षीय सुदीक्षा के पति अवनीश सेतिया की भी कनाडा में बाबा हरदेव सिंह के साथ सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी, इसके बाद 8 अगस्त 2017 के उनका दूसरा विवाह रमित चान्ना के साथ दिल्ली में हुआ था| सूत्रों के मुताबिक, दूसरे पति के साथ उनका विवाद चल रहा है|

सुदीक्षा निरंकारी मिशन के तीसरे गुरु हरदेव सिंह की तीनों बेटियों में से सबसे छोटी हैं| बचपन से सुदीक्षा ही आध्यात्मिक ज्ञान के प्रति उनके लगाव और पिता एवं पति के जाने के बाद मिशन की गतिविधियों में काफी सक्रिय होने के कारण उन्हें उत्तराधिकारी चुना गया|

17 जुलाई 2018 को सुदीक्षा को सतगुरु माता सविंदर कौर ने निरंकारी मिशन के छठे गुरु के रूप में पदभार सौंपा| उनके पिता के मृत्यु के बाद भी सुदीक्षा को मिशन का गुरु बनाने की चर्चा जोरों से चली थी, लेकिन परिजनों में सहमति नहीं बनने के चलते हरदेव सिंह की पत्नी सविंदर हरदेव महाराज ने मिशन का गुरु बनने का निर्णय लिया गया| अब माता सविंदर की कई माह से तबीयत खराब चल रही है| ऐसे में वह मिशन की गतिविधियों में नियमित तौर पर हिस्सा नहीं ले पा रहीं, इसीलिए अपनी बेटी को उत्तराधिकारी बना दिया|

Share.