ट्रिपल तलाक पर सदन में किसने क्या कहा ? जानिये 

0

लोकसभा में शुक्रवार को नया ट्रिपल तलाक बिल पर पेश किया ( New triple talaq bill introduced in Lok Sabha ) गया। बिल को नए केंद्रीय कानून मंत्री रविशकंर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad)  ने पेश किया। पहले तो बिल (New triple talaq bill) को लेकर सदन में जमकर हंगामा मचा। फिर इसके बाद वोटिंग शुरू हुई। वहीँ कई मंत्रियों ने बिल पर अपनी-अपनी राय व्यक्त की। सदन में एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन औवेसी (Asaduddin Owaisi) ने कहा, ” ये बिल मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ है, जब पुरुष जेल जायेंगे तो उनको गुजारा भत्ता कौन देगा? आपको मुस्लिम महिलाओं से इतना प्रेम है तो सबरीमाला मे महिलाओं के विरोध मे क्यों है? ये किस तरह का रवैया है आपका?”

महाराष्‍ट्र के स्कूलों को सीएम फडणवीस की धमकी

इस बिल के लिए सदन ( New triple talaq bill introduced in Lok Sabha ) में वोटिंग की गई। वोटिंग के बाद बिल के समर्थन में कुल 186 वोट पड़े वहीं इस बिल के विरोध में 74 वोट पड़े बिल के बारे में कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा, “सायरा बानों के फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने माना की ट्रिपल तलाक़ एकपक्षीय है। Art 15(3) कहता है कि महिला और बच्चों के लिए कोई भी कानून बनाया जा सकता है। आज 70 साल तक ऐसा कानून क्यों नहीं बना।

आज भी मुस्लिम महिलाओं के साथ ऐसा हो रहा है। 229 मामले सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आये है, इसीलिए इसे पास किया जाए। हम संसद हैं कानून बनाना हमारा काम है। अदालत का काम है कानून को इन्टरप्रेट करना। संसद को अदालत मत बनाइये।” उन्होंने आहे कहा कि आज बहुत पीड़ा की बात है कि ओवैसी तीन तलाक का विरोध करे, समझ आता है, लेकिन आज पूरी कांग्रेस विरोध कर रही थी क्यों?

सुमित्रा महाजन को लेकर मुखर हुए कैलाश

जेडीयू महासचिव केसी त्यागी ने बिल के बारे में कहा कि एनडीए में ट्रिपल तलाक़ बिल के बारे में कभी कोई चर्चा नहीं हुई है। यह नाज़ुक मसला है लिहाज़ा इसमें सभी पक्षों से बात कर आम सहमति बनाने की कोशिश करनी चाहिए। उनकी पार्टी मौजूदा स्वरुप में तीन तलाक़ बिल का समर्थन नहीं करेगी। नीतीश कुमार ने लॉ कमीशन को इस बारे में बताया था।

नोटबंदी के बाद अब मोदी करेंगे तीन तलाक और हलाला बंदी

Share.