website counter widget

महाराष्ट्र के बाद झारखंड में भी एनडीए के टुकड़े

0

महाराष्ट्र में चल रहे राजनीतिक घमासान का असर झारखंड में  भी आ गया है। शिवसेना ने जैसे बीजेपी को झटका दिया वैसे ही  अब LJP भी करने वाली है। कहा जा रहा है कि कुल 81 विधानसभा सीटों में से 50 सीटों पर LJP चुनाव लड़ेगी। आज शाम तक इसके लिए लिस्ट भी जारी कि जा सकती है। वहीं यह भी कहा जा रहा है कि आजसू (AJSU Party ) ने भी की बीजेपी से बगावत कर ली है।

महाराष्ट्र में लगा राष्ट्रपति शासन! सुप्रीम कोर्ट में शिवसेना!

सीटों के बँटवारे पर फंसा पेंच

झारखंड में सीटों के बँटवारे को लेकर पेंच फंसा हुआ है। भाजपा की कई सहयोगी पार्टी दगाबाजी करते हुए बीजेपी के उम्मीदवारों के खिलाफ ही चुनाव लड़ रही हैं। आजसू ने भी उन 12 विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है, जिनके लिए बीजेपी ने पहले ही उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी थी। अब LJP भी नामों का ऐलान करने वाली है। आजसू ने ऐसा इसीलिए किया क्योंकि उसने बीजेपी से 19 सीटों की मांग की थी, लेकिन बीजेपी उसे 9 से ज्यादा सीटें देने के लिए तैयार नहीं हुई। सोमवार को आजसू ने अपने 12 विधानसभा सीटों पर उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी। इनमें से 4 सीटें ऐसी है जिन पर बीजेपी ने भी अपने उम्मीदार मैदान में उतारे हैं। आजसू पार्टी अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो (AJSU Party President Sudesh Kumar Mahato ) को सिल्ली विधानसभा क्षेत्र से चुनाव के लिए फिर से उम्मीदवार बनाया गया है। 2014 के विधानसभा चुनाव में महतो ये सीट हार गए थे। पार्टी ने जुगसलाई सीट पर जल संसाधन मंत्री रामचंद्र सहिस को उतारा है।

कौन होगा आयोध्या मंदिर का प्रधान पुजारी

जहां एक ओर आजसू  ने बीजेपी से बगावत कर ली है, वहीं दूसरी एलजेपी भी बगावत करने की प्लानिंग कर रही है। एलजेपी ने बीजेपी से 6 सीटों की मांग की थी, लेकिन उनके प्रस्ताव को नकार दिया गया। बीजेपी ने अपनी 52 उम्मीदवारों की पहली सूची में जरमुंडी विधानसभा से भी उम्मीदवार के नाम की घोषणा कर दी है और वहाँ भी एलजेपी के लिए स्थान नहीं रखा। इसके बाद अब एलजेपी ने घोषणा की है कि वह झारखंड की 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। वहीं कांग्रेस ने भी 19 उम्मीदवारों की सूची जारी की है।

शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए कांग्रेस की शर्त

    – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.