जवानों को मारने के लिए नक्सली ये करेंगे…

0

जवानों को मारने के लिए नक्सली अक्सर नए-नए पैंतरे अपनाते हैं| ऐसे ही अब उन्होंने जवानों को मारने के लिए नई चाल चली है| नक्सली इस बार महंगी-महंगी दवाईयों के माध्यम से जवानों को शिकार बना रहे हैं|

दरअसल, सरकारी दवाओं से नक्सली अपनी सेहत बना रहे हैं और जवानों को नुकसान पहुंचा रहे हैं| नक्सलियों से मुठभेड़ के बाद विस्फोट और दीगर सामान के साथ दवाईयां भी मिलती हैं| ये अंदरूनी इलाकों में तैनात स्वास्थ्यकर्मियों के जरिये नक्सलियों तक पहुंचाई जा रही हैं|

सरकार इन दवाईयों के लिए हर साल करोड़ों का बजट बनाती है, लेकिन इनका कितना लाभ गरीबों को मिल रहा है, इसका कोई ब्योरा नहीं लेती| इस मामले का खुलासा नारायणपुर में हुई मुठभेड़ में एक बार फिर हुआ| यहां सामान्य बुखार और स्नैक वीनम से लेकर गर्भनिरोधक पिल्स भी मिले हैं, जबकि ग्रामीण स्मार्टकार्ड होने के बाद भी इन दवाओं से महरूम रहते हैं|

गौरतलब है कि वर्ष 2016 में कटेकल्याण थाना क्षेत्र के कुन्नडब्‍बा मुठभेड़ के बाद नक्सलियों के पास से बड़ी मात्रा में दवाएं बरामद हुई थीं| इसके बाद से ही यह माना जाता है कि नक्सली इन दवाओं का उपयोग अपने लोगों के लिए करते हैं| ऐसे में अब सरकारी तंत्र इन दवाओं तक नक्सलियों की पहुंच को रोकने में भी जुट गया है|

Share.