क्या भाजपा ने इस शहर का नाम रखा पंडित नाथूराम गोडसे नगर ?

0

महात्मा गांधी के हत्यारे नाथुराम गोडसे (Nathuram Godse, the killer of Mahatma Gandhi) के कई भक्त बीजेपी में मिल जाएँगे (Nathuram Godse Nagar) ! लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) हो या संसद भवन बीजेपी की साध्वी की गोडसे के प्रति भक्ति के कई उदाहरण मिल गए हैं। अब साध्वी के बाद शायद पूरी भाजपा गोडसे की भक्त हो गई है, इसीलिए बीजेपी शासित प्रदेश के एक शहर का नाम बदलकर  पंडित नाथूराम गोडसे नगर रखा जा रहा है!

Chief Minister Yogi Adityanath के आदेश पर 40 साल पुराना कानून बदला

मेरठ का नाम पंडित नाथूराम गोडसे नगर ?

उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले (Uttar Pradesh Meerut District) को पंडित नाथूराम गोडसे नगर (Nathuram Godse Nagar)करने की मांग की जा रही है। गाजियाबाद और मुजफ्फरनगर के नाम बदलने के भी कई प्रस्ताव सरकार के सामने आए हैं। अब इन मांगों का निपटारा करने के लिए राजस्व विभाग ने तीनों जिलों के जिलाधिकारियों से इस बावत जवाब मांगा है। इस मांग को लेकर एक पत्र भी  लिखा गया है। राजस्व विभाग ने जिलाधिकारियों को पत्र में लिखा है कि  प्रदेश सरकार के एकीकृत शिकायत निवारण प्रणाली (IGRS) में हापुड़ का नाम महंत अवैद्यनाथ नगर और गाजियाबाद का नाम महंत दिग्विजय नगर करने का संदर्भ दिया गया है। सूत्रों के अनुसार यह भी कहा जा रहा है कि हापुड़ जिला प्रशासन ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गुरु अवैद्यनाथ के नाम पर जिले का नाम बदलने का अनुरोध ठुकरा दिया है।

भाजपा नेताओं को सोरेन ने बताया बलात्कारी

मेरठ का नाम पंडित नाथूराम गोडसे नगर (Nathuram Godse Nagar) करने के बारे में राजस्व विभाग के अधिकारियों का कहना है कि उन्हें समय सीमा के भीतर इस मामले (लोगों या संगठनों द्वारा नाम बदलने की मांग) का निस्तारण करना है। यदि हम समय सीमा के साथ इनका निपटारा नहीं करते हैं तो ये मुद्दे लंबित रहेंगे। बाद में सीएम की ओर से ली जाने वाले समीक्षा बैठकों में हमें इस पर सफाई देनी होगी।  जब भी ऐसी कोई मांग या अनुरोध होता है तो सरकार उनकी टिप्पणी के लिए जिला प्रशासन से राय मांगती है।  सरकार ऐतिहासिक तथ्यों और अन्य विचारों के आधार पर ही फैसला लेती है। अखिल भारतीय हिंदू महासभा नाम के एक संगठन ने 15 नवंबर को गोडसे के नाम पर मेरठ का नाम बदलने की मांग की थी, लेकिन अब संगठन के अध्यक्ष व्रतधर रामानुज जीयर स्वामी त्रिदंडीजी का कहना है कि उन्होंने कभी इस मुद्दे को नहीं उठाया।

Nirbhaya Case LIVE : दोषियों की फांसी तय, सुप्रीम कोर्ट ने की याचिका खारिज

     – Ranjita Pathare 

Share.