website counter widget

कार्तिक पूर्णिमा पर नदी में डूबे कई लोग

0

कार्तिक पूर्णिमा (Karthik Purnima ) पर पूरे देश में मेला सा लगा हुआ है। नदी, घाटों और तालाबों के पास लोगों ने स्नान किया, लेकिन इसी बीच कई लोग हादसे का शिकार हो गए। अलग-अलग स्थानों पर लोग नदी में डूब गए, जिनमें कई लोगों की मौत हो गई। मरने वालों में पांच लड़कियों के शामिल होने की बात कही जा रही है। घटना बिहार (Bihar ) के नालंदा (Nalanda ) की है। घटना के बारे में पुलिस अधिकारी ने बताया कि नालंदा जिले के गिरियक थाना क्षेत्र के सकरी नदी में कार्तिक पूर्णिमा पर तीन लड़कियां स्नान करने गई थीं। इस दौरान ये तीनों लड़कियां नदी में डूब गईं। जिससे इनकी मौत हो गई। जैसे ही घटना की सूचना पावापुरी सहायक पुलिस थाना को मिली। तुरंत ही पुलिस मौके पर पहुंच गई।

मौके पर मौजूद लोगों का कहना है कि घटना के बारे में जब तक पता चलता तब तक काफी देर हो चुकी थी। सूचना मिलते ही एनडीआरएफ की टीम ने नदी में कूदकर तीनों का शव बाहर निकाला। पावापुरी थाना की प्रभारी ने बताया कि मृतकों में घोसरावां निवासी अजय सिंह की पुत्री अंशु कुमारी (17), सोनम कुमारी (15) तथा दीपू सिंह की पुत्री प्रीति कुमारी (15) शामिल हैं। सभी शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। वहीं नवादा जिले के कौआकोल प्रखंड के सेखोदेवरा गांव में तालाब में डूबकर एक शिक्षक के साथ तीन लोगों कि मौत हो गई। घटना के बारे में पुलिस ने बताया कि सेखोदेवरा गांव निवासी हरदेव महतो की पुत्री अनुराधा कुमारी और बाल्मीकी साव की पुत्री शिल्पी कुमारी कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर गांव के ही बड़की सूर्य मंदिर तालाब में स्नान को गई थीं। स्नान के दौरान वह गहरे पानी में डूब गईं।

अनुराधा कुमारी और शिल्पी कुमारी को बचाने के लिए गांव के ही शिक्षक अविनाश कुमार ने तालाब में छालांग लगा दी, लेकिन पानी अधिक होने के कारण वे भी डूब गए और उनकी भी मौत हो गई। अविनाश जमुई के एक सरकारी स्कूल में शिक्षक थे।

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.