सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने संसद में मांगी माफी, लेकिन…

0

गोडसे भक्त साध्वी प्रज्ञा (Godse Devotee Sadhvi Pragya ) ने अब अपने बयान के लिए माफी मांग ली है। साध्वी प्रज्ञा ने संसद में महात्मा गांधी के हत्यारे नाथुराम गोडसे (Nathuram Godse ) को देशभक्त बताया, जिसके बाद हंगामा मच गया। साध्वी के बयान पर संसद में काफी हंगामा मचा। बीजेपी और अन्य पार्टियों के नेताओं ने माफी की मांग की। इसके बाद अब साध्वी ने माफी तो मांग ली है, लेकिन इसमें भी चतुराई कर ली।

#RIPPriyankaReddy, प्रियंका रेड्डी के साथ जो हुआ वो जानकर दिल दहल जायेगा

संसद में माफी मांगते हुए साध्वी प्रज्ञा (Sadhvi Pragya apologizes in Parliament ) ने कहा कि महोदय इस घटनाक्रम में सबसे पहले मेरे बयान से यदि किसी प्रकार से कोई चोट पहुंची हो तो मैं क्षमा चाहती हूं। परन्तु मैं यह भी कहना चाहती हूं कि संसद में मेरे बयानों को तोड़मरोड़कर प्रस्तुत किया गया। यह निंदनीय है। महात्मा गांधी द्वारा देश के लिए काम का मैं सम्मान करती हूं। इसी सदन के एक सदस्य द्वारा मुझे सार्वजनिक तौर पर आतंकवादी कहा गया। मेरे खिलाफ अदालत में कोई आरोप सिद्ध नहीं हुआ है। बिना आरोप साबित हुए मुझे अपमानित किया गया है।

गोडसे भक्त प्रज्ञा को अब चुकानी पड़ेगी बड़ी कीमत!

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ विपक्ष के निंदा प्रस्ताव कि तैयारी

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे वाले बयान पर विपक्ष के सांसदों द्वारा निंदा प्रस्ताव पेश किया गया। विपक्ष कि मांग थी कि साध्वी प्रज्ञा को लोकसभा कि कार्रवाई से दूर रखा जाये, लेकिन अध्यक्ष ने निंदा प्रस्ताव स्वीकार नहीं किया।

क्या था साध्वी का बयान ?

बुधवार को लोकसभा में एक डिबेट के दौरान एसपीजी संशोधन बिल पर डीएमके सांसद ए राजा अपनी राय रख रहे थे। तभी ए राजा ने गोडसे के एक बयान का जिक्र किया जिसमें गोडसे ने कहा कि था कि उसने महात्मा गांधी को क्यों मारा था। उसी समय प्रज्ञा ठाकुर ने बीच में बोलते हुए कहा कि आप एक देशभक्त का उदाहरण नहीं दे सकते हैं। उनके इस बयान के बाद लोकसभा में हंगामा मच गया। इसके बाद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बयान को लोकसभा के रिकॉर्ड से हटा दिया गया।

गोडसे भक्त प्रज्ञा पर केस दर्ज, बीजेपी ने दिखाया बाहर का रास्ता!

     – Ranjita Pathare 

Share.