जानिए कौन है हॉक जेट उड़ाने वाली पहली महिला Mohana Singh

0

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) की फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहना सिंह (Mohana Singh Jitarwal) देश की ऐसी पहली लड़ाकू महिला पायलट बन गई हैं, जिन्होंने दिन में हॉक एडवांस जेट  को उड़ाया। मोहना सिंह (Flight Lt Mohana Singh) को दो महिलाओं भावना कंठ और अवनी चतुर्वेदी के साथ जून 2016 में लड़ाकू पायलट प्रशिक्षण के लिए लड़ाकू शाखा में चुना गया था। एक आधिकारिक बयान में शुक्रवार को यह जानकारी दी गई।

बयान में कहा गया कि पश्चिम बंगाल में कलाईकुंडा एयरफोर्स स्टेशन पर 4-एयरक्राफ्ट काम्बैट उड़ान के बाद महिला अधिकारी ने लैंड किया, जो हॉक जेट के पूरी तरह से परिचालन के लिए अंतिम उड़ान थी।

सांसदों ने बहुमत से संसद भंग करने का किया फैसला

जानकरी के अनुसार, मोहना सिंह के प्रशिक्षण में हवा से हवा में युद्ध व हवा से जमीन के मिशन शामिल हैं। उन्होंने कई अभ्यास मिशन किए हैं जिसमें रॉकेट, बंदूकें और उच्च क्षमता वाले बम गिराना शामिल है। उन्होंने वायुसेना के विभिन्न स्तर के उड़ान अभ्यासों में भी भाग लिया है।  उन्हें ट्रेनिंग के दौरान रॉकेट और हाई कैलिबर बम गिराने के साथ कई तरह के प्रशिक्षण दिए गए। इस दौरान मोहना (Flight Lt Mohana Singh) ने लगभग 500 घंटों तक उड़ान भरी,  जिसमें हॉक एयरक्राफ्ट एमके 132 जेट को 380 घंटे तक उड़ाया। एक साल से कम समय में ही सरकार ने प्रयोग के तौर पर महिला पायलटों के लिए युद्ध मिशन में शामिल होने का रास्ता खोलने का निर्णय लिया था।

दुर्घटना में घायल हुए तेज प्रताप, अस्पताल में दाखिल

इसके पहले फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ मिग-21 बाइसन को दिन में उड़ाने वाली पहली महिला फाइटर बनी थी। वायुसेना के अधिकारियों ने 22 मई को बयान दिया था कि भावना कांत ने दिन में लड़ाकू विमान मिग-21 को उड़ाकर इस मिशन को पूरा किया। वायुसेना के प्रवक्ता ग्रुप कैप्टन अनुपम बनर्जी ने बताया था कि भावना ने दिन में लड़ाकू विमान में उड़ान भर कर मिशन में कामयाबी हासिल करने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन गई हैं।

नौ सेना प्रमुख बने एडमिरल करमबीर सिंह

Share.