मोदी मैजिक से पेट्रोल का भाव 10 रुपए कम!

0

देश में महंगाई काफी बढ़ गई है और देश आर्थिक मंदी(Economic Crisis) के दौर से गुजर रहा है। देश की अर्थव्यवस्था की हालत काफी खराब हो गई है। मोदी सरकार(Modi Government) इस समस्या से निपटने के लिए एक बेहद बड़े प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। मोदी सरकार का यह प्रोजेक्ट अगर सफल होता है तो देश में पेट्रोल(Petrol Prices) 10 रुपए प्रति लीटर सस्ता हो जाएगा। मोदी सरकार के इस प्रोजेक्ट से सरकारी खजाने(Government Treasure) में एक या दो नहीं बल्कि पूरे 5 हजार करोड़ रुपए की बचत होगी। वहीं इस प्रोजेक्ट का लाभ आम आदमी को मिलेगा और उसका पेट्रोल(Petrol) का खर्चा पूरे 10 फीसदी तक कम हो जाएगा।

मोदी सरकार का यह प्रोजेक्ट भारतीय अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर(5 Trillion Dollar) के लक्ष्य तक ले जाने में बेहद अहम साबित होगा। दरअसल मोदी सरकार अपने इस बड़े प्रोजेक्ट के तहत देश में मिथेनॉल ब्लेंडेड फ्यूल लाने की तैयारी कर रही है। यह मिथेनॉल ब्लेंडेड फ्यूल उपलब्ध करवाने के लिए रोड ट्रांसपोर्ट एवं हाइवे मिनिस्टर नितिन गडकरी(Nitin Gadkari) ने पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को एक खत भी लिखा है। इस खत में नितिन गडकरी ने धर्मेंद्र प्रधान को पूरे देश में यह फ्यूल उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए हैं। अगर यह फ्यूल उपलब्ध करवाया जाता है तो इससे पेट्रोल की कीमतों में तो कमी आएगी ही साथ ही इससे प्रदुषण में भी 30 फीसदी की गिरावट आ जाएगी।

दरअसल यह फ्यूल मिथेनॉल और पेट्रोल(Petrol Prices) के मिश्रण से तैयार होता है। मिथेनॉल की कीमत 20 रुपए प्रति लीटर है। मिथेनॉल ब्लेंडेड फ्यूल को इंडियन ऑयल ने पहले ही बनाना शुरू कर दिया है। इस फ्यूल में 85 फीसदी पेट्रोल और 15 फीसदी मिथेनॉल होता है। इस बारे में नीति आयोग के सदस्य वीके सारस्वत ने जानकारी देते हुए कहा कि इस फ्यूल के लिए 65,000 किलोमीटर का ट्रायल रन पूरा कर लिया गया है। अगर यह फ्यूल जल्द देश भर में उपलब्ध करवाया जाता है तो इससे देश के खजाने में साल 2030 तक 100 अरब डॉलर की बचत होगी। अब सरकार इस दिशा में बेहद तेज गति से काम कर रही है। बेहद जल्द देश भर के पेट्रोल पंप पर मिथेनॉल मिला हुआ पेट्रोल उपलब्ध करवाया जाएगा।

भारत का पाकिस्तान पर हमला, सबसे खतरनाक मिसाइल…

CAA को लेकर मायावती ने मुसलमानों को चेताया!

कांग्रेसमुक्त भारत का सपना देखने वाली भाजपा पड़ी कमजोर

Prabhat Jain

Share.