CAA की आग के बाद मोदी सरकार ने लगाया आपातकाल ?

0

नागरिकता संशोधन अधिनियम (Citizenship Amendment Act)  के लागू होने के बाद से ही देश जल  रहा है। भीड़ हिंसक (CAA Protest ) होते जा रही है। सड़कों पर लोग पत्थर बरसा रहे हैं , वाहनों को फूँक रहे हैं, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं।  CAA की हिंसा की आग के बाद देश में एमेरजेंसी जैसे हालत बन  गए हैं। कई लोगों ने मांग की है कि अब इस स्थिति पर काबू पाने का एकमात्र रास्ता है और वो है एमेरजेंसी! CAA के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों को जेल में डाला जा रहा है। अभी 5 हजार से ज्यादा लोग जेल में बंद किए जा चुके हैं । कई राज्यों में कर्फ़्यू लगा गुआ है। इंटरनेट सेवाएं बंद की जा चुकी हैं। ये सब आपातकाल (Emergency In India ) जैसे ही हालात बने हुए हैं ।

नागरिकता कानून पर पीएम मोदी की कांग्रेस को चुनौती

हिंसक प्रदर्शन

दिल्ली से लेकर मुंबई और लखनऊ से लेकर बेंगलुरु तक प्रदर्शनकारी इस कानून के खिलाफ सड़कों पर हैं। गुरुवार को इसी प्रदर्शन के दौरान लखनऊ में एक और मंगलौर में 2 की मौत हो गई। आज फिर से लोगों ने प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है। उत्तरप्रदेश के 13 से अधिक जिलों में इंटरनेट बंद किए जा चुके हैं।  एहतियात के तौर पर कई जिलों  में धारा 144 लागू कर दी गई है। उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ के अलावा संभल में भी प्रदर्शनकारियों ने सरकारी बसों, मीडिया वाहनों, प्राइवेट वाहनों में तोड़फोड़ की, आगजनी कर दी।

Citizenship Amendment Act 2019 : नागरिकता कानून सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला

आपातकाल से भी  बुरे हालात

नागरिकता कानून के विरोध में हुई हिंसा पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिन लोगों ने सार्वजनिक संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया है, उन्हीं उपद्रवियों से इसकी वसूली की जाएगी और सीसीटीवी फुटेज के जरिये दोषियों की पहचान की जायेगी। देश के विभिन्न हिस्सों में वामपंथी नेताओं सीताराम येचुरी, डी राजा, नीलोत्पल बसु तथा बृंदा करात और इतिहासकार रामचंद्र गुहा को हिरासत में लिया गया। इस प्रदर्शन में कई अभिनेता और अभिनेत्री भी शामिल  हो रहे हैं। सीताराम येचुरी का कहना है कि सरकार ने आज दिल्ली सहित देश के तमाम इलाक़ों मे संचार सेवाएँ तक बंद कर दी, मेट्रो स्टेशन बंद किए गए। यह बताता है कि देश में हालात आपातकाल से भी बुरे हैं। जिस तरह से लोकतांत्रिक विरोध प्रदर्शनों से निपटा जा रहा है, वह अस्वीकार्य है।

नागरिकता कानून पर देश में हाहाकार, बोलती बंद करा रही सरकार  

       – Ranjita Pathare 

Share.