370 हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर में नाबालिगों के साथ…

0

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी। इस याचिका में कहा गया था कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने से पहले कश्मीर के कुछ नाबालिगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। यह याचिका एनाक्षी गांगुली (Enakshi Ganguly Thukral) की तरफ से वरिष्ठ वकील हुजेफा अहमदी ने दायर की थी। याचिकाकर्ता की तरफ से दायर इस याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें हाई कोर्ट की रिपोर्ट आ जाने तक इंतजार करने को कहा था। इसके बाद जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली बेंच ने हाईकोर्ट के 4 जजों की एक टीम गठित कर उन्हें सभी जेलों में दौरा रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया था।

हैदराबाद की महिला डॉक्टर की फॉरेंसिक रिपोर्ट में बड़ा खुलासा

जजों की टीम ने कश्मीर के सभी जेलों का दौरा कर एक रिपोर्ट तैयार की और उसे सुप्रीम कोर्ट को सौंप दिया। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि, कश्मीर में धारा 370 हटाए जाने के दौरान नाबालिगों को हिरासत नहीं लिया गया और न ही उन्हें जेल भेजा गया। (Enakshi Ganguly Thukral) यह बात हाईकोर्ट के जजों की टीम ने जुवेनाइल जस्टिस कमेटी की रिपोर्ट में कही है। सुप्रीम कोर्ट इस टीम की रिपोर्ट पर पूरी तरह से संतुष्ट नज़र आया।

रेलवे दे रहा है ख़ास सुविधा मात्र 25 रुपए में, जानकार हो जाएंगे खुश

याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एनवी रमना की बेंच ने कहा कि, कोर्ट अपने ही जजों पर भरोसा नहीं करेगा तो यह सहीं नहीं होगा। यह रिपोर्ट हाईकोर्ट के जजों द्वारा सभी जेलों का दौरा कर तैयार की गई है। (Enakshi Ganguly Thukral) वहीं इस पर सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता को यह भी छूट दी कि अगर उन्हें अभी भी इस मामले को लेकर कोई और शिकायत है तो वह इसके लिए संबंधित संस्था में इसकी अपील कर सकती हैं।

VIDEO : महिलाओं के प्रदर्शन पर राहुल गांधी का बड़ा बयान, पीएम मांगे माफी

Prabhat Jain

Share.