महबूबा ने दिया इस्तीफा

0

पिछले कुछ वर्षों से जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती घाटी में देशविरोधी घटनाओं को अंजाम देने वालों के पक्ष में खड़ी होती दिखाई देती थी और केंद्र की सरकार मौन थी क्योंकि काश्मीर में महबूबा की सरकार भाजपा और पीडीपी के गठबंधन से बनी थी परंतु अब भाजपा ने यह गठबंधन तोड़ने का ऐलान कर दिया है|  अब राष्ट्रपति शासन लगाकर जम्मू-कश्मीर में चल रही इन देश विरोधी घटनाओं पर नकेल कसी जा सकेगी|

सूत्रों के मुताबिक़, आज भाजपा ने  राज्यपाल को चिठ्ठी भेजी है, जिसमें जम्मू-कश्मीर की महबूबा सरकार से समर्थन वापस लेने की बात कही गई है| भाजपा की ओर से राम माधव ने कहा कि घाटी में अभिव्यक्ति की आजादी को खतरा है| महबूबा अपना दायित्व निभाने में सक्षम नहीं हैं| अब भाजपा जम्मू-कश्मीर में पीडीपी का साथ नहीं दे सकती है|

वहीं महबूबा मुफ्ती ने अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौप दिया है।  भाजपा काश्मीर में राज्यपाल शासन की मांग कर रही है| यह निर्णय एकतरफा संघर्षविराम की सुरक्षाबलों की तरफ से समाप्ति के बाद जम्मू कश्मीर सरकार के 11 बीजेपी मंत्रियों के दिल्ली ऑफिस में अमित शाह की बैठक में लिया गया|

इस बीच बड़ी खबर है कि राज्यपाल एनएन वोहरा का कार्यकाल बढ़ा दिया गया है। वे 25 जून को रिटायर होने वाले थे , लेकिन नए राज्यपाल का नाम तय ना हो पाने के चलते अगली नियुक्ति तक वोहरा का कार्यकाल बढ़ा दिया गया है।

Share.