मेघालय के राज्यपाल ने बंगाली लड़कियों को कहा बार डांसर

0

मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय (Tathagata Roy) के एक बयान के बाद बंगाल के साथ ही देश भर में बवाल मचा हुआ है। रॉय (Roy) ने कहा है कि बंगाल (Bengal)  कभी महान हुआ करता था, लेकिन अब उसकी महानता चली गई है। उन्होंने बंगाली लड़कियों (Bengali Girls Dance In Bars) के साथ ही बंगाल के लड़कों के लिए भी विवादित बयान (Controversial Statements) दिया।

उन्होंने कहा कि अब बंगाली लड़के फर्श साफ कर रहे हैं और बंगाली लड़कियां बार में डांस करती हैं। राज्यपाल तथागत रॉय कुछ राज्यों में हिंदी भाषा पढ़ाए जाने को लेकर हो रहे विरोध पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहे थे और इसी को लेकर उन्होंने कई ट्वीट किए।  इसके बाद वे अपने ट्वीट के कारण ही फंस गए।

महिलाओं के अधिकार के लिए हाईकोर्ट का अहम् फैसला


मेघालय के राज्यपाल तथागत रॉय द्वारा दिए गए विवाद के बाद उन्होंने सफाई भी दी। रॉय ने सफाई देते हुए कहा कि उनके बयान (Bengali Girls Dance In Bars) को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया है। पश्चिम बंगाल के रहने वाले तथागत रॉय लंबे समय तक बीजेपी में रहे हैं। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से इस संबंध में एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने बंगालियों द्वारा हिंदी सीखने के विरोध को ज्ञान की कमी और राजनीतिक बताया। तृणमूल कांग्रेस ने राज्यपाल के इस बयान पर विरोध प्रदर्शन किया है। इसके बाद राज्यपाल ने ट्वीट किया कि कोई बहुत बड़ा विरोध नहीं है, उनके शोर मचाने के पीछे सिर्फ राजनीतिक कारण है।

जम्मू – कश्मीर से हटेगी धारा 370!

चली गई बंगाल की महानता (Bengali Girls Dance In Bars)

राज्यपाल ने आगे कहा कि असम, महाराष्ट्र और ओडिशा राज्य भी गैर-हिंदी भाषी राज्य हैं, लेकिन वे लोग हिंदी का विरोध नहीं कर रहे हैं तो वहीं दूसरे तर्क में कहा जा रहा है कि बंगाल विद्यासागर, विवेकानंद, रवींद्रनाथ टैगोर और नेताजी सुभाषचंद्र बोस की भूमि है,बंगालियों को हिंदी क्यों सीखनी चाहिए? इन महापुरुषों और विपक्षियों के बीच हिंदी सीखने को लेकर क्या संबंध है? इन दिग्गजों का युग अब चला गया है और बंगाल की महानता भी चली गई है।

शरद पवार ने की RSS की तारीफ

Share.