BSP सांसद ने लगाया ईवीएम में घोटाले का आरोप

0

लोकसभा चुनाव (lok sabha election 2019) में जहाँ भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) को शानदार जीत हासिल हुई वहीँ बसपा (Bahujan Samaj Party) और कांग्रेस (Indian National Congress) जैसी कई पार्टियों को करारी हार का सामना करना पड़ा। बहुजन समाज पार्टी (BSP) प्रमुख मायावती ( Mayawati, Former Chief Minister of Uttar Pradesh ) आज अपनी करारी हार की समीक्षा करने वाली है। मायावती ने पार्टी कार्यकर्ताओं की अखिल भारतीय स्तर पर मीटिंग बुलाई है वहीँ बसपा के सांसद का कहना है कि भाजपा को यह जीत ईवीएम घोटाले (Ram Shiromani Verma On EVM Scam) के कारण हुई है।

Video : भाजपा विधायक ने महिला को सरेआम मारे लात-घूंसे

ईवीएम घोटाले का आरोप (Ram Shiromani Verma On EVM Scam)

उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती से नवनिर्वाचित बसपा सांसद राम शिरोमणि वर्मा ने भाजपा पर ईवीएम घोटाले का आरोप (Ram Shiromani Verma On EVM Scam) लगाया है। उन्होंने इस बारे में कहा,”लंबे पैमाने पर ईवीएम घोटाला हुआ है। हम लोग पहले से कह रहे हैं कि बैलेट पेपर से चुनाव होना चाहिए, जिसे ना तो चुनाव आयोग मान रहा है, ना सरकार मान रही है। हम चाहते हैं कि बैलेट पेपर से चुनाव कराया जाए, जो निष्पक्ष हो। बहनजी जो भी दिशा निर्देश देंगी, हम उसका पालन करेंगे। ”

साइकिल पर सवार मंत्रालय पहुंचे नए स्वास्थ्य मंत्री

मायावती करेगी मंथन

करारी हार के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती आज हार का मंथन करने वाली है। उन्होंने पार्टी के नवनिर्वाचित सांसदों, जोन इंचार्ज और जिलाध्यक्षों को बैठक में शामिल होने का निर्देश दिया है।  पार्टी के अन्य कई वरिष्ठ नेता भी बैठक में हिस्सा लेंगे। इसके पहले बसपा सुप्रीमो ने बड़ा फैसला लेते हुए छह राज्यों के लोकसभा चुनाव प्रभारियों को हटाकर नए की नियुक्ति की। इतना ही नहीं, उन्होंने तीन राज्यों के प्रदेश अध्यक्षों को भी पद से बेदखल कर दिया।

दबंग दीदी ने किया बीजेपी कार्यालय पर कब्ज़ा, खुद लिखा AITC

जानकारी के अनुसार, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, राजस्थान, गुजरात और ओडिशा के लोकसभा चुनाव प्रभारियों को मायावती ने हटा दिया है। उन्होंने इसके साथ ही मध्य प्रदेश और दिल्ली के बीएसपी अध्यक्षों को भी पद से हटा दिया। पिछले लोकसभा चुनाव यानी 2014 की तुलना में इस बार बसपा का अच्छा प्रदर्शन माना जा रहा है। आज बैठक में संगठन में फेरबदल को लेकर अहम फैसला हो सकता है। पार्टी सूत्रों के अनुसार, मायावती के रडार पर प्रदेश के 40 समन्वयक और जोनल समन्वयक हैं, जिन पर गाज गिर सकती है।

Share.