website counter widget

कभी मातोश्री में बनती थी सरकारें आज किंग मेकर किंग बनने के लिए भटक रहे है

0

मुंबई: एक जमाने में शिवसेना(Shiv Sena) और ठाकरे परिवार को किंग मेकर कहा जाता था। शिवसेना प्रमुख के निवास मातोश्री (Matoshree) में बैठकर कभी बाला साहब ठाकरे (Bala Saheb Thakrey) ये निर्धारित करते थे की महाराष्ट्र (Maharashtra)  में किसी सरकार बनेगी और किसकी बिगड़ेगी। महराष्ट्र के अलावा बाला साहब ठाकरे देश की राजनीती में भी अपना पक्ष रखते थे जिसे बड़ी गंभीरता से लिया जाता था। बड़े से बड़ा नेता उनसे मिलने के लिए मातोश्री आता था।लेकिन इन दिनों मातोश्री नेताओं की चहल-पहल से दूर हो गया है। सरकार बनाने को लेकर मची सियासी खींचतान के कारण ऐसा हुआ है। उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को अपने परिवार से मुख्यमंत्री बनाने के लिए ना सिर्फ मातोश्री से बाहर पैर रखना पड़ा बल्कि उन्हें इन दिनों मुंबई के होटलों के चक्कर भी काटने पड़ रहे है।

50-50 फॉर्मूले पर आखिर क्यों संजय राउत ने खाई बालासाहेब की कसम

उद्धव ने मातोश्री से बाहर कदम रखने के साथ ही कई होटलों के चक्कर काटे. होटल रंग शारदा और रिट्रीट मलाड, जहां शिवसेना की विधायकों की रखा गया था, वहां तो वो आधी रात को भी पहुंचे. जानकारी के अनुसार सरकार बनाने की चाह में उद्धव होटल ताज लैंड जा कर एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार से मिले, वहीं होटल ट्राइडेंट बांद्रा में जाकर वो कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल से भी मिले लेकिन इस पूरे समय में कोई भी मातोश्री नहीं पहुंचा.

भारतीय सेना में पहली महिला न्यायाधीश की हुई नियुक्ति

शिवसेना को किंग मेकर कहा जाता है लेकिन इन दिनों किंग मेकर सिर्फ किंग बनने के लिए अन्य पार्टियों के सामने गिड़गिड़ा रही है। शुरुआत में भाजपा के साथ गठबंधन की चर्चा थी। जिसमे 50-50 फॉमूले के कारण भाजपा से 10 साल पुराना नाता टूटने की कगार पर है। भाजपा से इंकार के बाद शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस की तरफ रुख किया की शायद यहाँ से कुछ मदद मिले लेकिन कांग्रेस शिवसेना की तर्ज पर कांग्रेस-एनसीपी से भी शिवसेना से 50-50 फार्मूले की मांग कर डाली मतलब शिवसेना को अपना ही दाव खुद पर भारी पड़ गया। जिसके बाद कांग्रेस और एनसीपी के साथ भी बात नहीं बनी और अंततः महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। ये कहा जा सकता है की किंग मेकर को इन दिनों महज किंग बनने के लिए दर-दर भटकना पड़ रहा है।

राफेल डील पर मोदी को क्लीन चिट से बढ़ी कांग्रेस की मुसीबत

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.