समाज से लड़कर की मुझसे शादी…

0

आध्यात्मिक गुरु भय्यू महाराज ने अपने घर में स्वयं को गोली मारकर आत्महत्या कर ली| कहा जा रहा है कि भय्यू महाराज पारिवारिक तनाव से ग्रसित थे, इसलिए उन्होंने यह कदम उठाया| उनकी दूसरी पत्नी डॉ.आयुषी अपने पति की मौत के बाद बदहवास दिखी| वह बार-बार बस यही कह रही थी कि गुरुजी ऐसा नहीं कर सकते|

डॉ.आयुषी महाराज के भक्तों से घिरी बस इतना कह रही थी कि उन्होंने समाज से लड़कर मुझसे शादी की थी, वे मुझे अकेले छोड़कर नहीं जा सकते हैं| वे चले जाएंगे तो मैं भी उनके साथ चली जाऊंगी| वे इतने कमजोर नहीं थे कि खुद को गोली मार लें| आत्महत्या का तो सवाल ही पैदा नहीं होता|

बापट चौराहा स्थित सूर्योदय आश्रम के सदस्यों का कहना है कि दो दिन पहले गुरुजी आश्रम आए थे, तब उन्होंने सब से कहा था कि एक-दूसरे का ध्यान रखें और मिलजुलकर काम करें| आश्रम के मुख्य द्वार पर लगे बोर्ड पर आज उनके माध्यम से लिखे गए कोटेशन में उनके मन की दुविधा झलक रही थी| कोटेशन में लिखा था, “आदमी के लिए विश्वास ही सब कुछ है| तुम यदि उस पर भी विश्वास खो देते हो तो इससे बड़ा डाउनफाल दूसरा नहीं हो सकता|”

आश्रम की सदस्य सुलेखना भारती ने बताया कि 8 जून को ही भय्यू महाराज की पत्नी डॉ.आयुषी का जन्मदिन था| उनका जन्मदिन आश्रम में आश्रम परिवार के सभी लोगों ने मिलकर मनाया था| उनकी चार माह की बेटी भी आई थी|

Share.