ओवैसी के कारण खौफ़ मेँ ममता बनर्जी!

0

अपने बेबाक अंदाज से राजनीति के दिग्गजों की बोलती बंद कराने वाली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee ) ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी (All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen chief Asaduddin Owaisi i) से डरी हुई है। ओवैसी के कारण सीएम बनर्जी इतना परेशान हो गई कि उनकी रातों कि नींदे तक उड़ गई है। ऐसा इसीलिए क्योंकि ओवैसी बंगाल (AIMIM In Bengal) कि राजनीति मेँ शतरंज की बिसात बिछाने मेँ लग गए हैं, जो TMC के अस्तित्व को खतरे मेँ डाल सकता है।

इन 5 कारणों से महिलाओं के साथ बलात्कार होता है!

जानकारी के अनुसार, बंगाल में मुस्लिमों का वोट शेयर 31 फीसदी है, जो अभी तक TMC के खाते मेँ जाता था, लेकिन अब असदुद्दीन ओवैसी भी पश्चिम बंगाल की राजनीति मेँ प्रवेश करने की तैयारी कर रहे हैं।  इसके लिए वे अदले महीने कोलकाता मेँ एक बड़ी रैली की योजना बना रहे हैं। ममता बनर्जी ने 2011 में 34 साल से चले आ रहे लेफ्ट को अल्पसंख्यकों के भारी समर्थन के कारण ही बाहर का रास्ता दिखाया था। अब ऐसे ही AIMIM ममता बनर्जी की पार्टी के साथ करने की योजना बना रहे हैं ।

राजस्थान में पति ने दिया तलाक तो ससुर ने किया बलात्कार

AIMIM के प्रवक्ता असीम वकार ने पश्चिम बंगाल मेँ कहा कि हमलोग इस साल जल्दी ही कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में एक रैली करने वाले हैं। असदुद्दीन ओवैसी यहां भाषण देकर बंगाल में AIMIM के अधिकारिक लॉन्च का ऐलान करेंगे। फिलहाल हमने रैली को लेकर तारीख का ऐलान नहीं किया है क्योंकि ओवैसी इन दिनों झारखंड में रैली कर रहे हैं। बंगाल में मैं अपनी पार्टी को मजबूत करने के लिए 24 फरवरी 2017 से काम कर रहा हूं। कई बार हमने ज़करिया स्ट्रीट में छोटी बैठकें की हैं, जिसका हमें अच्छा रिस्पॉन्स मिला है।इसके बाद से हमने बंगाल में 25 से ज्यादा मीटिंग की है। आखिरी मीटिंग 24 सितंबर को हुई थी। अब ये ममता दीदी पर है कि वो हमें अपना दुश्मन समझती हैं या दोस्त। हम लोग हर हाल में 2021 में चुनाव लड़ने जा रहे हैं। अगर वो हमें अपना दोस्त मानती है तो हम साथ मिलकर लड़ेंगे और अगर दुश्मन तो फिर हम उनके खिलाफ लड़ेंगे।

मध्यप्रदेश के नगर निगम सबसे बड़े रिश्वत खोर

      – Ranjita Pathare 

 

 

Share.