Malegaon blast case : साध्वी प्रज्ञा की खुल गई पोल

0

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) में भोपाल (Bhopal)  से भाजपा प्रत्याशी और मालेगांव ब्लास्ट की दोषी (Malegaon blast case ) साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (Pragya Singh Thakur) को भारी मतों से जीत हासिल हुई। चुनाव प्रचार के दौरान से ही साध्वी प्रज्ञा (Unwell Pragya Thakur Skips Court) विवादों में बनी हुई थी। अब साध्वी की बीमारी को लेकर उठे विवाद में सबसे बड़ा झूठ सामने आया है।

दरअसल, उन्हें मुंबई की एनआईए कोर्ट में पेश होना था, लेकिन साध्वी बीमारी की बात कहकर अस्पताल में भर्ती हो गईं। इस बारे में उनकी पोल खुल गई है। साध्वी बीमारी की बात कहकर अस्पताल में तो पहुँच गई, लेकिन जब वे भोपाल में महाराणा प्रताप की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में नारेबाजी करने पहुंची तो उनकी असलियत सामने आ गई।

शरद पवार ने की RSS की तारीफ

साध्वी की खुली पोल (Unwell Pragya Thakur Skips Court)

जानकरी के अनुसार, साध्वी प्रज्ञा (Unwell Pragya Thakur Skips Court) ईद के मौके पर भी पूरे जोश के साथ नजर आई। इसके बाद उन्हें दुसरे  दिन ही कोर्ट में पेशी के लिए जाना था। लेकिन वे बीमार हो गई और अस्पताल में भर्ती हो गई। लेकिन जब साध्वी की तस्वीर महाराणा प्रताप को श्रद्धांजलि देते हुए सामने आई तब जाकर मामला सामने आया। अब ऐसा कहा जा रहा है कि पेशी से बचने के लिए साध्वी ने बीमारी का बहाना बनाया था। पेशी टलने के बाद भोपाल में महाराणा की मूर्ति के पास बीजेपी के लोग इकट्ठा हुए, वहां साध्वी प्रज्ञा भी पहुंचीं थी।

बीकानेर की रानी से दुर्व्यवहार पर अकबर को मिली थी ये सज़ा

साध्वी ने कार्यक्रम में महाराणा प्रताप के क्षत्रिय होने का बखान किया और उन्हें हिंदू अस्मिता से जोड़ा। मीडिया वालों ने साध्वी को याद दिलाया कि उनकी तो तबीयत खराब थी तो साध्वी भी एकाएक बोलीं, गरमी है, ऐसा हो जाता है। इसके बाद उन्होंने मुंह उतार लिया। पहले उन्हें देखकर ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगा कि उनके सेहत खराब हुई हो। मालेगांव बम धमाकों की आरोपी साध्वी को अप्रैल 2017 में 9 साल कैद में रहने के बाद सशर्त जमानत दी गई थी। 3 जून को एनआईए कोर्ट ने प्रज्ञा सिंह ठाकुर को हर हफ्ते पेश होने का आदेश दिया था। इसके बाद उनकी 6 जून की पेशी थी, जिसमें वो नहीं गई।

इंदौरवासी गर्मी सहन करने के लिए हो जाएं तैयार

Share.