website counter widget

शिवसेना को धमका रही भाजपा!

0

महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति में कुर्सी को लेकर मचा बवाल शांत होने का नाम ही नहीं ले रहा है। भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) और शिवसेना (Shiv Sena) अपनी-अपनी जिद पर अड़ी है। वहीं अब भाजपा (B J P) पर शिवसेना (Shiv Sena) ने धमकाने का आरोप लगाया है। शिवसेना का कहना है कि भाजपा अपनी बात मनवाने के लिए उन्हें धमकी दे रही है और राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करवाने कि बात कह रही है (President’s Rule In Maharashtra)। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में सहयोगी भारतीय जनता पार्टी पर जमकर भड़ास निकाली। उन्होने सामना में महाराष्ट्र सरकार (Government of Maharashtra) के वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार (Finance Minister Sudhir Mungantiwar)  पर भी कई आरोप लगाए।

पाकिस्तानी हैकर ने हैक की BJP की वेबसाइट

शिवसेना (Shiv Sena) ने सामना में लिखा, “महाराष्ट्र की राजनीति फिलहाल एक मजेदार शोभायात्रा बन गई है। शिवराय के महाराष्ट्र में ऐसी मजेदार शोभायात्रा होगी तो इसका जिम्मेदार कौन होगा? वर्तमान झमेला ‘शिवशाही’ नहीं है। राज्य की सरकार तो नहीं लेकिन विदा होती सरकार के बुझे हुए जुगनू रोज नए मजाक करके महाराष्ट्र को कठिनाई में डाल रहे हैं (President’s Rule In Maharashtra)। धमकी और जांच एजेंसियों की जोर-जबरदस्ती का कुछ परिणाम न हो पाने से विदा होती सरकार के वित्तमंत्री सुधीर मुनगंटीवार (BJP Leader Sudhir Mungantiwar) ने नई धमकी का शिगूफा छोड़ा है। 7 नवंबर तक सत्ता का पेंच हल न होने पर महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाएगा।”

जीत के बाद आजम ने शासन और प्रशासन पर जमकर हमला बोला

सामना में आगे लिखा है कि श्रीमुनगंटीवार और उनकी पार्टी के मन में कौन-सा जहर उबाल मार रहा है, ये इस वक्तव्य से समझा जा सकता है (President’s Rule In Maharashtra)। कानून और संविधान का अभ्यास कम हो तो ये होता ही है या कानून और संविधान को दबाकर जो चाहिए वो करने की नीति इसके पीछे हो सकती है। एक तो राष्ट्रपति हमारी मुट्ठी में हैं या राष्ट्रपति की मुहरवाला रबर स्टैंप राज्य के भाजपा कार्यालय में ही रखा हुआ है तथा हमारा शासन नहीं आया तो स्टैंप का प्रयोग करके महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन का आपातकाल लाद सकते हैं, इस धमकी का जनता ये अर्थ समझे क्या? सुधीर मुनगंटीवार द्वारा दी गई राष्ट्रपति शासन की धमकी लोकतंत्र विरोधी और असंवैधानिक है। ये महाराष्ट्र और विधानसभा चुनाव में मिले जनादेश का अपमान है। ‘संविधान’ नामक घर में रहनेवाले रामदास आठवले डॉ. आंबेडकर के संविधान का अपमान सहन न करें।

सैन्य ठिकाने पर आतंकवादी हमला, 53 सैनिकों की मौत

     – Ranjita Pathare 

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.