website counter widget

शरद पवार ने बताया क्यों मिलाया शिवसेना से हाथ

0

महाराष्ट्र (Maharashtra News) में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद अब शायद जोड़-तोड़ की सरकार बन ही जाएगी। सत्ता के बँटवारे को लेकर मचा घमासान अब सुलझता जा रहा है। यदि राज्य में शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस (Shiv Sena-NCP and Congress ) की सरकार बनती है तो भाजपा को सबसे बड़ा झटका लगेगा। शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत (Shiv Sena spokesperson Sanjay Raut ) के बयानों के बाद अब राष्ट्रीयवादी कांग्रेस (Nationalist Congress ) के प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar ) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होने बताया कि आखिर क्यों उन्होने शिवसेना का हाथ थामा। सरकार बनाने के लिए जो कॉमन मिनिमम प्रोग्राम तैयार किया गया है, उसमें किसानों को प्रमुखता दी गई है। राकांपा नेता शरद पवार (NCP leader Sharad Pawar) ने कहा है कि महाराष्‍ट्र में सरकार गठन (Maharashtra government formation) की प्रक्रिया शुरू हो गई है। नई सरकार पूरे पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में शरद पवार ने कहा कि अतिवृष्टि के कारण संतरे को बहुत नुकसान हुआ है। संतरा किसानों से मैंने खुद निजी तौर पर चर्चा की है। 60 से 70 फीसदी तक उनकी फसल पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। संतरा उत्पादक बहुत बड़े संकट से गुजर रहे हैं। महाराष्ट्र में किसानों की हालत दयनीय है और जो बची हुई फसल है उनमें भी घुन लगने की आशंका है।

किसानों के बारे में एनसीपी प्रमुख ने कहा कि सोयाबीन की फसल और किसानों से मिलकर मैंने गंभीर चर्चा की है। सोयाबीन की 33 फीसदी से अधिक फसल बर्बाद हो चुकी है। मैं खुद 10-12 गांवों में जाकर हालात का जायजा ले चुका हूं। मौसमी और धान की फसल को भी भयानक नुकसान हुआ है। मैं निजी तौर पर नागपुर और प्रदेश के किसानों से मिला हूँ। किसानों की फसल को काफी नुकसान हुआ है और यह अभूतपूर्व हानि है। इसके लिए केंद्र सरकार से भी किसानों को तत्काल सहायता देने की मांग की। वहीं राकांपा नेता नवाब मलिक ने कहा कि एक ही सवाल बार-बार पूछा जा रहा है कि शिवसेना का मुख्‍यमंत्री होगा क्‍या। आपको मालूम होगा कि सीएम पोस्‍ट को लेकर ही भाजपा और शिवसेना के बीच विवाद हुआ था। ऐसे में निश्चित रूप से मुख्‍यमंत्री शिवसेना का ही होगा।

    – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.