जब BJP-PDP के साथ सरकार बना सकती है तो शिवसेना NCP के साथ क्यों नहीं

0

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) में सरकार बनाने को लेकर महाभारत चल रही है लेकिन अभी तक सरकार बनाने को लेकर कोई निर्णायक मोड़ नहीं आया है। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) के शिवसेना(Shiv sena) को सरकार बानने का दावा पेश करने के लिए आमंत्रित करने के एक दिन बाद संजय राउत (Sanjay Raut) ने कहा कि ने कहा भाजपा(BJP)  ने 50-50 फार्मूले की बात न मानकर जनादेश का अपमान किया है। और साथ ही उन्होंने ने कहा की लोकसभा से पहले यही बात तय की गई थी लेकिन जब समय आया तो भाजपा (Sanjay Raut Targets BJP) अपने वादे से मुकर गई। साथ ही राउत ने कहा की जब भजपा पीडीपी के साथ मिलकर जम्मू कश्मीर में सरकार बना सकती है तो शिवसेना एनसीपी (NCP) और कांग्रेस (Congress) के साथ मिलकर क्यों नहीं।

भाजपा-शिवसेना के झगड़े के बीच कांग्रेस में फूट पड़ी


संजय राउत (Sanjay Raut Targets BJP) ने कहा यह बीजेपी की ज़िम्मेदारी थी कि उसने अपने सहयोगी के साथ जो वादा किया था उसे लागू करे और महाराष्ट्र (Maharashtra) को एक स्थिर सरकार दे और ऐसी स्थिति न बने. यह लोगों का अपमान है. भाजपा द्वारा राज्यपाल को बताया गया कि सेना तैयार नहीं है और इसलिए सरकार नहीं बनाई जा सकती है. लेकिन हमसे कभी भी विचार-विमर्श करने के बारे में नहीं पूछा गया.

भारत के सबसे प्रभावशाली मुख्य चुनाव आयुक्त टीएन शेषन

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव मे बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, एनसीपी को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिली हैं. बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर बहुमत का 145 का आंकड़ा पार कर लिया था. लेकिन शिवसेना ने 50-50 फॉर्मूले की मांग रख दी जिसके मुताबिक ढाई-ढाई साल सरकार चलाने का मॉडल था. शिवसेना का कहना है कि बीजेपी के साथ समझौता इसी फॉर्मूले पर हुआ था लेकिन बीजेपी का दावा है कि ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ. इसी लेकर मतभेद इतना बढ़ा कि दोनों पार्टियों की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई.

राम नवमी को रखी जाएगी राम मंदिर की नींव!

-Mradul tripathi

Share.