कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना का 6 महीने के लिए गठबंधन

0

महाराष्ट्र (Maharashtra ) की राजनीति मे नए सूरज का उदय होने वाला है। शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस (Shiv Sena-NCP-Congress ) का गठबंधन लगभग तय है। तीनों पार्टियों ने एक साथ आकार मीडिया से रूबरू होकर भी यह सिद्ध कर दिया कि वे मिलकर सरकार बनाने के लिए तैयार है। प्रदेश में अभी नए गठबंधन की सरकार बनी भी नहीं है और उससे पहले ही बीजेपी (bjp ) ने निशाना साधना और सरकार गिराने के बारे में बोलना शुरू कर दिया है। तीनों पार्टियों के एकसाथ आने पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Former Chief Minister Devendra Fadnavis ) ने कहा है ये नई सरकार केवल 6 महीने ही चल पाएगी।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Former Chief Minister Devendra Fadnavis ) ने कहा कि प्रदेश में बीजेपी सरकार के अलावा और कोई विकल्प नहीं है। विपरीत विचारधाराओं वाली पार्टियां सरकार बना रही है, जो 6 महीने से ज्यादा भी नहीं चल पाएगी। वहीं भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील का कहना है कि शिवसेना ने जनादेश का अपमान किया है। अगर शिवसेना, कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के सहयोग से सरकार बनाने की स्थिति में है तो हम उन्हें अपनी शुभकामनाएं देते हैं।

कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना तैयार

कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी ने नई सरकार बनाने के लिए न्यूनतम साझा कार्यक्रम (CMP) का ड्राफ्ट बना लिया है। किसान कर्जमाफी, रोजगार, फसल बीमा योजना की समीक्षा, छत्रपति शिवाजी महाराज और बीआर अंबेडकर स्मारक जैसे कई मुद्दों को सीएमपी में शामिल किया गया है। पहली बार तीनों पार्टी के नेता एक साथ आए और उन्होने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। शिवसेना के नेता एकनाथ शिंदे ने गठबंधन के बारे में कहा कि बैठक में न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर बात हुई है, ड्राफ्ट तैयार है, जिसे तीनों ही पार्टियों के अध्यक्ष के पास भेजा जाएगा। इसके बाद कांग्रेस की ओर से पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि दो दिनों तक हमारी बातचीत चली। ड्राफ्ट में क्या है इसका खुलासा फिलहाल हम यहां नहीं कर सकते। वहीं एनसीपी के छगन भुजबल ने कहा कि किसान, बेरोजगारी, अल्पसंख्यक, एससी, ओबीसी, महिला सशक्तिकरण से संबंधित मुद्दे ड्राफ्ट में हैं। जरूरत पड़ने पर इसमें बदलाव भी हो सकता है।

    – Ranjita Pathare 

 

Share.