website counter widget

भालुओं का शिकार करने के बाद खाता था उनके प्राइवेट पार्ट

0

भोपाल: आपने जंगली जानवरों को मारकर उनको खाने और उनके अंगो की तस्करी की खूब ख़बरें सुनी होगी। लेकिन क्या आपने कभी ऐसे आदमी के बारे में सुना है जो जानवरों को मारकर उनका प्राइवेट पार्ट खाता हो जी हां एक ऐसा ही मामला हाल ही में प्रकाश में आया है। जानकारी के अनुसार बाघों (Tigers) और भालुओं (Sloth Bears) का शिकार करने वाले कुख्यात शिकारी (Poacher) यारलेन को पुलिस (Tiger Poacher) ने लगभग छह साल बाद गिरफ्तार कर लिया है। यारलेन केवल शिकार और तस्करी को लेकर ही कुख्यात नहीं है, बल्कि वो अपने अजीबोगरीब शौक और सनक के लिए भी कुख्यात है. चर्चा है कि वो भालू को मारने के बाद उसका गुप्तांग (Private Part) खा जाता है. बता दें कि आदिवासी इलाकों में यह मान्यता है कि ऐसा करने से पौरुष बढ़ता है, हालांकि इसका कोई प्रामाणिक आधार नहीं है.

भारत में आत्मघाती हमला करने को तैयार पाकिस्तानी सिंगर…!

जानकारी के अनुसार भालू (Tiger Poacher) का शिकार उसके गॉल ब्लैडर और बाल बेचने के लिए भी किया जाता है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी काफी कीमत मिलती है क्योंकि माना जाता है कि इससे बनने वाली दवाओं से कैंसर (Cancer), तेज दर्द (Pain) और दमा (Asthma) जैसी बीमारियों में आराम मिलता है. इसके अलावा वह अन्य जानवरों का भी शिकार करता था। उनके अंगों की भी वह तस्करी करता था।

Pok में आजादी की मांग कर रहे प्रदर्शनकारी, आपातकाल लागू

तस्करी की दुनिया में यारलेन को कई नाम से जाना जाता है. यारलेन, जसरात और लुजालेन उसके प्रचलित नाम हैं. स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने यारलेन को 19 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया. उसके पास से कई आधार कार्ड, तीन फर्जी वोटर आईडी भी मिले हैं. फॉरेस्ट एसटीएफ के गठन के बाद यारलेन उनके पहले निशाने पर था और लंबे समय से उसकी तलाश की जा रही थी. वो एसटीएफ के रडार पर तब आया जब कई भालू मृत पाए गए और उनके गुप्तांग गायब मिले. इसके साथ ही यह बात फैलने लगी कि यारलेन भालुओं का शिकार कर उनके गुप्तांग खा जाया करता है.

NCRB की चौंकाने वाली रिपोर्ट, इस मामले अव्वल आया MP

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.