website counter widget

इस गीत के बाद से लता जी ने नहीं गाया कोई गाना

0

भारत की स्वर कोकिला कही जाने वाली लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar Updates) इन दिनों ख़राब स्वास्थ्य से गुजर रही है। और 4 दिन से ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती है इस बीच कुछ लोगों द्वारा ये खबर भी फैलाई गई की लता जी का निधन हो गया जो की सरासर गलत थी। डॉक्टर्स ने बताया की उनके स्वस्थ में लगातार सुधार हो रहा है| उनके स्वस्थ को परिवार वालों का भी बयान सामने आया है| लता मंगेशकर की टीम ने स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा, ‘हमें यह बताते हुए आपकी तरह ही खुशी हो रही है कि आपकी प्रार्थनाओं और शुभकामनाओं के साथ लता दीदी अब पहले से काफी बेहतर हैं।’


कुछ महीनो पहले लता जी के रिटायर होने की अफवाह उडी थी। फेसबुक( Facebook)  पर शेरिंग वांगड़ी लेपचा (Tshering Wangdi Lepcha) नाम के एक यूजर ने पोस्ट डालकर दावा किया था  कि 90 साल की होने के बाद लता मंगेशकर ने अपना आखिरी गाना रिकॉर्ड करने का फैसला किया है. अब इसके बाद वे अपनी आवाज में कुछ भी ​रिकॉर्ड नहीं करवाएंगी. यूजर ने इस पोस्ट में लता मंगेशकर की ही आवाज में एक मराठी गाना भी पोस्ट किया था . गाने के बोल थे  ‘आता विसाव्याचे क्षण…’ जिसका मतलब है कि ‘अब यह आराम करने का वक्त है’. पोस्ट में इसे लता जी का अंतिम गाना बताया गया था. फेसबुक यूजर्स ने इस पर विश्वास भी कर लिया, मसलन यह वास्तव में लता मंगेशकर का आखिरी गाना हो और लोगों ने इसे भावुक टिप्पणियों के साथ खूब फैलाया गया था।

लेकिन बाद में जांच पड़ताल करने के बाद पता चला की जिस गाने के बारे में यह दावा किया गया था की यह लता जी का आखरी गाना है वह लगभग पांच साल पुराना था . 90 साल की होने जा रहीं लता मंगेशकर ने कभी नहीं कहा कि यह उनकी आखिरी रिकॉर्डिंग (Recording)  है और अब वे रिटायर होने जा रही हैं. एक इंटरव्यू में उन्होंने यह जरूर कहा कि वे अपनी आखिरी सांस तक गाना चाहती हैं. लेखक यतींद्र मिश्र ने हिंदी में ​’लता सुर गाथा’ नाम से लता मंगेशकर की जीवनी लिखी है, जिसके लिए उन्हें पुरस्कृत भी किया है. यह किताब 2016 में छपी थी. यतींद्र मिश्र ने बताया कि जब भी लता जी से पूछा जाता है कि अगर चुनने का विकल्प हो तो वे ‘मोक्ष’ और ‘संगीत’ में से क्या चुनेंगी, तो उनका जवाब होता है ‘संगीत’. यतींद्र मिश्रा के मुताबिक, “लता जी हमेशा से कहती हैं कि वे सिंगिंग छोड़ने के बारे में सोच भी नहीं सकतीं. मुझे नहीं लगता कि उन्होंने अभी तक कभी रिटायरमेंट के बारे में सोचा होगा.” लता जी ने कुछ महीनों पहिले एक इंटरव्यू में कहा था मैं आज के गानों से खुद का जुड़ाव नहीं महसूस कर पाती हूं. इसलिए गाना कम कर दिया है. लेकिन जहां तक गैर-फिल्मी गानों की बात है तो मैं गाती रहूंगी.”

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.