website counter widget

सबरीमाला मंदिर के खुले कपाट, महिलाओं की एंट्री…

0

केरल (Kerala ) में सबरीमाला मंदिर (Sabarimala temple) के कपाट आज भक्तों के लिए खुलने वाले हैं। अब भक्त दो महीने तक भगवान आयप्पा (Lord Ayyappa ) के दर्शन करेंगे। भगवान के दर्शन के लिए बढ़ती उत्सुकता के साथ ही एक परेशानी भी बढ़ गई है कि क्या अब सुप्रीम कोर्ट (Supreme court ) के आदेश को ध्यान मे रखते हुए महिलाओं को मंदिर में प्रवेश करने दिया जाएगा। महिलाओं के प्रवेश और सुरक्षा के मद्देनजर मंदिर परिसर के पास ढाई हजार से ज्यादा पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है। वहीं इस मामले पर अब केरल सरकार (Government of Kerala ) ने यू-टर्न ले लिया है।

जानिये लता मंगेशकर की आवाज कैसे हुई इतनी सुरीली

पिछले साल 28 सितंबर 2018  को सुप्रीम कोर्ट (Supreme court ) ने सबरीमाला मंदिर (Sabarimala Temple ) में महिलाओं की एंट्री को हरी झंडी दिखाई थी, लेकिन उसके बाद भी काफी हंगामा हुआ था। इस मामले पर दायर की गई पुनर्विचार याचिका को बड़ी बेंच के पास भेजा है। कोर्ट ने अपने पूराने फैसले को ही लागू करने का फैसला सुना दिया है। वहीं त्रावणकोर देवासम बोर्ड (Travancore Devasam Board ) के मुताबिक जो लोग कानूनी रूप से मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं, उन्हें रोका नहीं जाएगा।

जानिए लता जी की जिंदगी की ख़ास बातें

महिलाओं की एंट्री पर घमासान

इस गीत के बाद से लता जी ने नहीं गाया कोई गाना

सीपीएम राज्य सचिवालय, जो कभी मंदिर में महिलाओं की एंट्री के पक्ष में थे वे अब इस मामले पर कुछ और ही बोल रहे हैं। उन्होने केरल की एलडीएफ सरकार को सलाह दी है कि उसे सभी आयु वर्गों की महिलाओं को मंदिर में एंट्री दिलाने पर ज्यादा जोर नहीं देना चाहिए। ऐसा कहा जा रहा है कि उन्होने ऐसी सलाह केरल में कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए दी है। वहीं केरल के देवास्वोम मंत्री कडकमपल्ली सुरेंद्रन (Kerala’s Devaswom Minister Kadakampally Surendran ) ने कहा कि अगर कोई महिला सबरीमाला तक जाने के लिए पुलिस सुरक्षा चाहती है तो उसे कोर्ट का आदेश लाना होगा। सरकार इस साल सामाजिक कार्यकर्ताओं को किसी भी तरह के ऐक्टिविजम की इजाजत नहीं देगी। तृप्ति देसाई जैसे लोग इसे अपनी ताकत दिखाने के मौके के तौर पर न देखें। सबरीमाला ऐसे ड्रामों को दिखाने की जगह नहीं है।

        – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.