website counter widget

सदन में फूटा कुमार स्वामी का गुस्सा, कहा…

0

कर्नाटक (Karnataka) में सियासी नाटक चल रहा है। विधानसभा में बहुमत के शक्ति परीक्षण के दौरान बहस हो रही है। इसी हंगामे के बीच शक्ति पर जेडीएस-कांग्रेस (congress jds) सरकार की तरफ से बोलते हुए मुख्‍यमंत्री एचडी कुमारस्‍वामी (HD Kumaraswamy Floor Test) आग बबूला हो गए। उन्होंने सदन में कहा कि हमारा भी आत्मसम्मान है।

भाजपा नेता के कार शोरूम पर छापा, लाखों की कर चोरी उजागर

सीएम कुमारस्वामी ने कहा कि शक्ति परीक्षण की इतनी जल्‍दी क्‍या है? पहले ये तो स्‍पष्‍ट होना चाहिए कि ऐसा क्‍यों हो रहा है? आखिर मेरा और मेरे मंत्रियों का भी आत्‍मसम्‍मान है। मुझे इस संबंध में कुछ बातें साफ करनी हैं। पहले ये बताइए कि सरकार को अस्थिर करने के पीछे कौन जिम्‍मेदार है?

स्‍पीकर की छवि खराब करने की कोशिश

सीएम कुमार स्वामी (HD Kumaraswamy Floor Test) ने आगे कहा कि स्‍पीकर की छवि खराब करने की कोशिश हो रही है। विश्‍वास मत पर बीजेपी इतनी हड़बड़ी में क्‍यों है। बीजेपी हमारी सरकार को गिराना चाहती है। कुमारस्वामी ने आगे कहा कि मैं यह साबित करने के लिए विश्वास मत प्रस्ताव पेश करता हूं कि हमारे सत्तारूढ़ गठबंधन के पास सदन में बहुमत है। वहीँ हंगामे के दौरान स्‍पीकर केआर रमेश कुमार ने कहा कि इस सदन के लिए सुप्रीम कोर्ट सर्वोपरि है।

बिहार की जनता डूब रही थी, नेता-मंत्री फिल्म देख रहे थे

मैं कांग्रेस के नेताओं को यह साफ करना चाहूंगा कि आप लोगों के किसी भी अधिकार या कार्य में यह ऑफिस बाधक नहीं है। मेरा इसमें कोई रोल नहीं है। जब कोई सदस्‍य विधानसभा में उपस्थित ना होने या ना आने का फैसला करता है तो हमारे अटेंडेंट उन्‍हें हाजिरी रजिस्‍टर में साइन करने की अनुमति नहीं देते। ऐसे सदस्‍य विधानसभा की किसी भी पारिश्रमिक को पाने के हकदार भी नहीं होते।

वहीँ विधानसभा में सिद्धारमैया ने कहा, “जब तक हमें उच्चतम न्यायालय के पिछले आदेश पर स्पष्टीकरण नहीं मिल जाता तब तक इस सत्र में विश्वास मत नहीं कराया जा सकता। यह संविधान के खिलाफ है। यदि व्हिप लागू होती है और वे (बागी विधायक) अदालत के आदेश के कारण सदन में नहीं आते हैं तो यह गठबंधन सरकार के लिए बहुत बड़ा नुकसान होगा।”

शताब्दी में छेड़छाड़, महिला ने बताया क़ानूनी समाधान

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.