भड़काऊ भाषण देने वाले नेता कपिल मिश्रा को मिली Y+ सुरक्षा

0

दिल्ली में हुई हिंसा (Delhi Riots 2020) को लेकर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) को अहम निर्देश दिया है। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court)  ने कहा – “न्याय के हित में हाईकोर्ट को निर्देश दिया जाता है (Kapil Mishra Gets Y Security) कि मामले की सुनवाई शुक्रवार को करे। हेट स्पीच समेत इस हिंसा से जुड़ी सभी याचिकाओं पर शुक्रवार को सुनवाई की जानी चाहिए। हाईकोर्ट मामले की यथासंभव जल्द सुनवाई करे और नेता लोगों से बात करे। इस मामले में तुषार मेहता ने इस फैसले का विरोध (CAA Protest)  किया है जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम चाहते हैं किसी भी सूरत में शांति संभव हो। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने कहा कि इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट को शांतिपूर्वक विवाद का हल निकालने की कोशिश करना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने हर्ष मंदर द्वारा दायर की गई भाजपा नेताओं के भड़काऊ भाषण वाली याचिका को सुनने से इंकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस याचिका पर तब तक सुनवाई नहीं की जाएगी जब तक हर्ष मंदर द्वारा न्यायपालिका को लेकर की गई टिप्पणी का मामला सुलझ नहीं जाता।

Delhi Violence : राजधानी में अर्धसैनिक बल तैनात, गृह मंत्रालय ले रहा पल-पल की अपडेट

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के प्रधान न्यायाधीश बोबडे ने हर्ष मंदर के उस भाषण का ट्रांसक्रिप्ट मांगा है जिसमें उन्होंने सुप्रीम कोर्ट (Kapil Mishra Gets Y Security)  के फैसले पर टिप्पणी की थी। हर्ष मंदर (Harsh Mander) के मामले में सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को सुनवाई की जाएगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली हिंसा (Delhi Burns)  मामले के पीड़ितों के साथ-साथ हर्ष मंदर ने भी याचिका दायर की थी। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने हर्ष की याचिका पर सुनवाई करने से साफ़ मना कर दिया। सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका में हर्ष मंदर ने भड़काऊ भाषण देने वाले भाजपा नेताओं के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी। हर्ष का आरोप है कि दिल्ली में दंगों को भड़काने के लिए इन भड़काऊ भाषणों ने मुख्य भूमिका अदा की थी। बता दें कि दिल्ली में हुई हिंसा में अब तक 48 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 200 से अधिक लोग इस हिंसा में घायल हुए हैं। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एस ए बोबडे ने हर्ष की याचिका पर सुनवाई करने से इंकार करते हुए और उनके द्वारा सीएए (CAA) को लेकर दिए गए बयान का हवाला देते हुए कहा, “आपने सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ बयान दिया है। हम अभी आपको नहीं सुनेंगे… यदि हर्ष मंदर को सुप्रीम कोर्ट के बारे में ऐसा लगता है तो पहले इस पर फैसला होना चाहिए।” याचिकाकर्ता हर्ष मंदर पर आरोप है कि उसने सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की थी।

दिल्ली देंगे में आतंकवादी उमर खालिद का हाथ

हर्ष मंदर (Kapil Mishra Gets Y Security)  द्वारा याचिका पर सरकार पक्ष रख रहे सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने आपत्ति जताई। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता (Tushar Mehta) ने कहा, “हर्ष मंदर ने भाषण में कहा कि हमें सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा नहीं है। यह सीएए के विरोध प्रदर्शन में दिया गया भाषण है।” तुषार मेहता की इस बात पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एस ए बोबडे ने कहा कि हम इस मामले में दखल नहीं देना चाहते क्योंकि मंदर की याचिका को हाई कोर्ट ट्रांसफर किया गया है और अब इस मामले की सुनवाई हाईकोर्ट कर रहा है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाई कोर्ट को निर्देश दिया कि इस मामले को लंबा टाला जाना उचित नहीं है इसलिए इस मामले में 5 मार्च यानी शुक्रवार को सुनवाई की जानी चाहिए। वहीं दूसरी तरफ ‘आप’ को छोड़कर भाजपा में शामिल हुए कपिल मिश्रा द्वारा भड़काऊ भाषण दिए जाने के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश पर उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है। अब भाजपा नेता कपिल मिश्रा की सुरक्षा में 24 घंटे 9 सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे। कपिल मिश्रा पर भड़काऊ भाषण देकर दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) को भड़काने का आरोप लगा है। गौरतलब है कि पुलिस अधिकारी ने मीडिया को बताया कि दिल्ली में दंगे होने के बाद कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) ने दिल्ली पुलिस (Delhi Police)  से Y+ श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करने की मांग की थी। पुलिस अधिकारी का कहना है कि कपिल ने उन्हें बताया कि उन्हें फोन करके लगातार धमकियां दी जा रही हैं और उनकी जान को खतरा है। हालांकि मीडिया ने कपिल मिश्रा से भी बात करने की कोशिश की लेकिन मिश्रा की तरफ से कोई भी जवाब नहीं मिला।

दिल्ली हिंसा कोई फसाद नही बल्कि सोची-समझी रणनीति!

Prabhat Jain

Share.