कांग्रेस को झटका, ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी के साथ   

0

कांग्रेस के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया (Congress general secretary Jyotiraditya Scindia ) पिछले काफी समय से अपनी पार्टी से रुष्ट चल रहे हैं । उनके कई बार भाजपा मे शामिल (Jyotiraditya Scindia joins BJP) होने की खबरे भी आ चुकी है, लेकिन अब एक मुद्दे पर बीजेपी के साथ जाकर सिंधिया ने यह साबित कर दिया है कि वे  कांग्रेस के नहीं बल्कि बीजेपी के साथ (Jyotiraditya Scindia With BJP)  जाना चाहते हैं। नागरिकता संशोधन बिल को लेकर संसद में जमकर हंगामा मचा हुआ है। इसका कांग्रेस पुरजोर विरोध कर रही है। इतना ही नहीं जब शिवसेना ने लोकसभा में  इस बिल को लेकर बीजेपी का साथ दिया था तब भी कांग्रेस (Congress) में हलचल मच गई थी, जिसके बाद शिवसेना को अपना रुख बदलना पड़ा, लेकिन अब ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia supports BJP ) नागरिकता संशोधन बिल के समर्थन और अपनी पार्टी के विरोध में आ गए हैं ।

सांसद नुसरत ने सड़क पर किसे कर दिया खुलेआम किस

नागरिकता संशोधन बिल (Jyotiraditya Scindia statement on citizenship amendment bill) का समर्थन करते हुए सिंधिया ने कहा कि बिल संविधान के विपरीत अलग बात है, लेकिन इसमें भारत की वसुधैव कुटुंबकम की विचारधारा और सभ्यता है। पहले देशों के आधार पर हुआ। अब राज्य, धर्म के आधार हो रहा है। कांग्रेस के साथ ही देश की अनेक राजनैतिक पार्टियां इस बिल का विरोध कर रही हैं। देश के अनेक राज्यों, उत्तर-पूर्व राज्यों में आप स्थिति देखिए। बाबा साहब अंबेडकर ने संविधान में लिखा है कि किसी को जात-पात, धर्म की दृष्टिकोण से नहीं देखा जाएगा। केवल भारत के नागरिक के रूप में देखा जाएगा।

भारत ने सभी  को अपनाया है

सिंधिया ने आगे कहा कि केवल प्रजातंत्र की बात नहीं, बल्कि पिछले तीन-चार हजार सालों के इतिहास को देखा जाए तो भारत ने सभी को अपनाया है। वसुधैव कुटुंबकम भारत की विशेषता रही है, जो बिल लोकसभा में पारित कराया गया और आज जिसे राज्यसभा में पेश किया जा रहा है।  मैं मानता हूं कि जो भारत की विचारधारा और सभ्यता है कि सभी को साथ में लेकर चलना, इस अध्यादेश में भी धर्म और राज्य के आधार की बात है। देशों के आधार पर तो पहले भी हुआ था, लेकिन धर्म के आधार पर यह पहली बार है। मैं तो मानता हूं कि यह संविधान के विपरीत है, लेकिन भारतीय संस्कृति के आधार पर है।

भारतीय सेना को मिली दुनिया की सबसे शक्तिशाली राइफल

यह कोई पहला मौका नहीं है जब सिंधिया ने बीजेपी का समर्थन किया हो। इसके पहले भी सिंधिया कई मुद्दों पर बीजेपी का साथ दे चुके हैं, जिसके कारण उन्हें कांग्रेस के गुस्से का भी सामना करना पड़ा ।  सिंधिया जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का भी समर्थन कर चुके हैं, जिसका कांग्रेस ने पुरजोर विरोध किया था।

क्या नागरिकता बिल  मुस्लिमों के खिलाफ है ? पढ़ें शाह का भाषण

           – Ranjita Pathare 

Share.